अखबार बेचनेवाले बच्चे ने कहा IAS बनना चाहता हूं... और फिर पटना के पुलिस ऑफिसर ने क्या कहा देखिए यह रिपोर्ट

अखबार बेचनेवाले बच्चे ने कहा IAS बनना चाहता हूं... और फिर पटना के पुलिस ऑफिसर ने क्या कहा देखिए यह रिपोर्ट

पटना। आज सुबह तैराकी से लौटते वक्त सचिवालय फ्लाई ओवर पर करीब 05.30 बजे अचानक एक संगीतमय आवाज कानों में पहुंची---अंकल टाइम क्या हुआ  ??आवाज इतनी प्यार और मिठास भरी थी कि मेरे कदम जस के तस रुक गए। पीछे मुड़ा तो देखा कि--एक सुंदर बालक ओठों पे मुस्कान लिये सायकिल पर बैठा है औऱ उनके कैरियर पर काफी अखबार रखे थे। पहले तो उन्हें जी भरकर देखा और लंबी सांस लेकर मैंने पूछा, बाबू आप क्या करते हैं और इतनी सुबह कहाँ से आ रहे हैं।जबाब पलक झपकते ही मिला---अंकल अखबार बेचकर लौट रहा हूँ। मैंने पूछा  आपका नाम क्या है औऱ पापा क्या करते हैं तो उन्होंने बताया कि मेरा नाम विवेक राज है और मेरे  पापा एडवोकेट हैं। मैं हरनी चक अनीसाबाद का रहने वाला हूँ।  मैंने पूछा आप इतनी कम उम्र में अख़बार कैसे बेचते हैं तो बाबू ने बताया कि यह मेरा अपना बिजिनेस है। मैंने महसूस किया  कि उस अद्भुत बालक के साथ समय बिताने में अलौकिक आनन्द की अनुभूति हो रही थी। 

कौन किसको मोटिवेट कर रहा था


उन्होंने आगे बताया वह "11"वर्ष का है और क्लास 8 में पढ़ाई कर रहा है तथा बड़ा होकर  ""एक I.A.S.ऑफीसर बनना चाहता है""""। मैं उनको टक टक देखता रह गया। उनकी सुरीली आवाज, उनकी उम्र, उनका व्यक्तित्व और उनका लक्ष्य ये सारी बातें मेरे  दिलो-दिमाग को उत्प्रेरित कर रहे थे। मैंने उनको जी भरकर गले लगाया और अपनी क्षमता के अनुसार काफी MOTIVATE  करने का प्रयास कर रहा था ""लेकिन यहाँ तो उल्टे मैं  ही उनसे   MOTIVATE हो रहा था""।  मेरे पास उस समय आशीर्वाद के अलावा देने को कुछ नहीं था, ऐसा लग रहा था कि उन्हें क्या दे दूँ।। सोचता हूं कि, कल से घड़ी पहनकर निकलूंगा और यदि वह बालक मिल जाये तो उन्हें घड़ी देने का प्रयास करूंगा ताकि उन्हें किसी से समय ना पूछना पड़े। सचमुच किसी ने सही कहा है कि----आपके जीवन में परिस्थितियां कैसी होंगी यह ईश्वर/परवरदिगार तय करते हैं  लेकिन,,उन परिस्थितियों से कैसे जूझना है यह तय करना हमारे/आपके हाथ में है।

यह कहानी राजधानी पटना के विभिन्न थानों में अपनी बखूबी जिम्मेदारी निभा चुके टीआई मनोरंजन भारती की है, यह वही पुलिस ऑफिसर हैं, जिन्हें सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में जांच के लिए मुंबई भेजी गई टीम का नेतृत्व करने का मौका मिला था। मनोरंजन भारती बिहार के काबिल पुलिसकर्मियों में एक रहे हैं, जिन्हें कई पुरस्कार भी मिल चुका है।

Find Us on Facebook

Trending News