नीतीश के सामने बीजेपी का आत्मसमर्पण, कहा - जदयू के दो चार मंत्री अधिक ही बन जाएं तो भी कोई आपत्ति नहीं

नीतीश के सामने बीजेपी का आत्मसमर्पण, कहा - जदयू के दो चार मंत्री अधिक ही बन जाएं तो भी कोई आपत्ति नहीं

नई दिल्ली। बिहार में नीतीश सरकार के कैबिनेट विस्तार की चर्चा लंबे समय से चल रही है। इस सिलसिले में कयास लगाया जा रहा है कि भाजपा और जदयू के बीच मंत्री पद के लिए 50-50 के फार्मूले पर सहमति बन सकती है। इस बीच मुजफ्फरपुर से भाजपा सांसद अजय निषाद ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि मंत्रिमंडल विस्तार सीएम का अधिकार है। जब हमने नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री मान लिया है तो फिर मंत्री में क्या रखा है। वह जदयू से चार मंत्री अधिक बना सकते हैं, भाजपा को इससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा। अजय निषाद का यह बयान ऐसे समय में आया है, जब बिहार में भाजपा और जदयू के बीच तल्खियां बढ़ी हुई हैं। भाजपा लगातार नीतीश को मनाने में जुटी हुई है।

न्यूज4नेशन के साथ बातचीत में मुजफ्फरपुर सांसद ने साफ कहा कि बिहार में कैबिनेट विस्तार कोई मुद्दा नहीं है, जिसे बेवजह तूल दिया जा रहा है। कैबिनेट में एनडीए के सभी विधायकों को मौका मिलेगा। इसमें जदयू या भाजपा से कम या अधिक मंत्री बनाए जाने का सवाल ही नहीं है।

बिहार तक ही हमारा गठबंधन

अरुणाचल प्रदेश मामले को लेकर सांसद अजय निषाद ने कहा कि जदयू के साथ हमारा गठबंधन सिर्फ बिहार तक है। बिहार के बाहर दोनों पार्टियों अपने फैसले लेने के लिए स्वतंत्र हैं। यह बात जदयू भी जानती है। इसलिए मुझे नहीं लगता है कि अरुणाचल प्रदेश में जो हुआ, उसमें कुछ गलत था।


नीतीश सुलझाएंगे मांझी का मुद्दा

पूर्व सीएम जीतन राम मांझी के एक एमएलसी और मंत्री पद की मांग को लेकर अजय निषाद ने कहा भाजपा के साथ उनका गठबंधन नहीं है, उन्हें जदयू ने अपने कोटे से सीटें दी थी, इसलिए मांझी की मांगों पर फैसला नीतीश कुमार ही लेंगे।

भूपेंद्र-आरसीपी की मुलाकात पर बोले

गुरुवार को जदयू अध्यक्ष आरसीपी सिंह और बिहार भाजपा प्रभारी भूपेंद्र यादव की मुलाकात को उन्होंनें सामान्य घटना बताते हुए कहा कि वह उन्हें बधाई देने पहुंचे थे। इस दौरान हो सकता है कि कैबिनेट विस्तार और विधान परिषद के दो सीटों पर होनेवाले चुनाव पर चर्चा हुई हो। जहां तक गठबंधन में टूट का सवाल है, राजद के इस दावे में कोई दम नहीं है। 


Find Us on Facebook

Trending News