लड़कियों को उचक उचककर देखते थे नीतीश कुमार, बिहार के मुख्यमंत्री ने खोला अपने पढाई के दिनों का सबसे बड़ा राज

लड़कियों को उचक उचककर देखते थे नीतीश कुमार, बिहार के मुख्यमंत्री ने खोला अपने पढाई के दिनों का सबसे बड़ा राज

पटना. स्कूल-कॉलेज के दिनों में लड़के-लड़कियों की दोस्ती के कई किस्से आए दिन सुनने को मिलते हैं. लेकिन आज से कुछ दशक पहले तक बिहार के कॉलेजों में लड़कियों की संख्या बेहद कम होती थी. ऐसे में जब गिनती की लड़कियां कॉलेज जाती थी तो उस दौर में वहां पढ़ने वाले लड़कों के लिए वह कौतुहल का विषय हो जाता था. और इससे बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी अछूते नहीं थे. खुद नीतीश कुमार ने एक कार्यक्रम के दौरान इसका खुलासा किया. उन्होंने यहां तक कि वे लड़कियों को उचककर देखते थे. 

दरअसल, शिक्षा दिवस के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सीएम नीतीश ने राज्य में शिक्षा व्यवस्था में आए बड़े बदलवों का जिक्र किया. इसमें लड़कियों की शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए पिछले 17 सालों में बिहार में सीएम नीतीश के नेतृत्व में हुए काम को उन्होंने गिनाया. सीएम नीतीश ने अपने पढाई के दिनों को याद कर कहा कि वे लड़कियों उचक कर देखते थे. उन्होंने कहा, हमारे समय में कालेज में कोई लड़की नहीं आती थी,कभी कोई लड़की अगर आ जाया करती थी तो हम सभी लोग उचक-उचक कर देखने लगते थे.

श्रीकृष्‍ण मेमोरियल हाल में आयोजित शिक्षा दिवस समारोह में उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि लड़कियां खूब पढ़े. लड़कियां अगर पढ़ लेंगी तो प्रजनन दर घट जाएगा. अभी प्रजनन दर 2.9 पर है, पहले यह 4 से ऊपर था. लेकिन जैसे-जैसे लड़कियां शिक्षित हो रहीं, प्रजनन दर में कमी आ रही है. सीएम नीतीश ने कहा कि यहां शिक्षक और प्रोफेसर लोग हैं. हम उनसे आग्रह करेंगे कि आप लोग बच्चे बच्चियों को अच्छे से पढ़ाईए. 

इस अवसर पर उन्होंने राज्य में शिक्षा क्षेत्र में किए जा रहे कई कामों को गिनाया. साथ ही शिक्षकों को सख्त हिदायत दी कि जो शिक्षक सही से नहीं पढ़ाएंगे उन्हें निकाल दिया जाएगा. उन्होंने राज्य में नए शिक्षकों की बहाली को लेकर भी बड़ी घोषणा की. जल्द ही राज्य में बड़े स्तर पर नए शिक्षकों की नियुक्ति होगी. 

Find Us on Facebook

Trending News