CM नीतीश का 'दर्द' कैसे होगा कम ! चेहरा चमकाने को अखबारों में बड़े-बड़े विज्ञापन...दो चैनलों से कराया 'लाइव', फिर भी कह रहे- हमारी खबर तो छपती ही नहीं

CM नीतीश का 'दर्द' कैसे होगा कम ! चेहरा चमकाने को अखबारों में बड़े-बड़े विज्ञापन...दो चैनलों से कराया 'लाइव', फिर भी कह रहे- हमारी खबर तो छपती ही नहीं

PATNA:  बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जब से पाला बदलकर तेजस्वी यादव से हाथ मिलाया,तभी से वे एक दर्द से परेशान हैं. मुख्यमंत्री का दर्द बार-बार बाहर आ जाता है.आखिर वो दर्द खत्म क्यों नहीं हो रहा....दरअसल उस दर्द की दवा चिकित्सकों के पास नहीं है. इसीलिए नीतीश कुमार अपनी हर भाषण में यह बात कहने से नहीं चुकते कि जरा हम पर भी ध्यान दीजिए। ऊपर वालों ने तो मीडिया पर कब्जा कर लिया है। हमारे अच्छे कामों का कोई नामलेवा नहीं है। हमारे खिलाफ ही सारी खबरें चलती है। अपने खिलाफ की खबरों से नीतीश कुमार विचलित हैं. यही वजह है कि CM बार-बार और हर बार मीडिया के सामने कहते हैं कि हमारा एकाध बार खबर चलती- छपती है. ऊपर वालों का बड़ा-बड़ा छपता है. जो लोग काम नहीं करते, सिर्फ उन्हीं की खबरें छपती हैं. आज पटना में स्वास्थ्य विभाग के कार्यक्रम में भी नीतीश कुमार दर्द सार्वजनिक हो गया. वैसे नीतीश कुमार और महागठबंधन सरकार में डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव का चेहरा चमके इसका ख्याल रखा जा रहा है। मीडिया में विज्ञापन के नाम पर पानी की तरह पैसे बहाये जा रहे हैं. नीतीश कुमार का भाषण सुनाने को लेकर सरकारी खजाना खोल दिया गया है। बिहार की दो रिजनल चैनलों से पेड लाइव कराया जा रहा है,ताकि नीतीश कुमार की छवि विकास पुरूष में बनी रहे. वहीं अखबारों में बड़ा-बड़ा विज्ञापन देकर बताया जा रहा कि हमारी सरकार बेरोजगारों को नौकरी दे रही. 

नीतीश सरकार ने विज्ञापन पर पानी की तरह बहाये पैसे 

सीएम नीतीश कुमार ने आज मुख्यमंत्री डिजिटल हेल्थ योजना का शुभारंभ किया. साथ ही 515-515 करोड़ की लागत से डुमरांव और बेगूसराय में मेडिकल कॉलेज का शिलान्यास किया। इस मौके पर डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव भी शामिल रहे। इसके अलावे 9469 चयनित स्वास्थ्य कर्मियों को नियुक्त पत्र वितरण किया। इस कार्यक्रम में डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव भी शामिल हुए। स्वास्थ्य विभाग के नौकरी बांटने वाले कार्यक्रम को लेकर माहौल बनाने के लिए सरकार ने पूरी तैयारी की थी। राज्य के सभी बड़े अखबारों में विज्ञापन देकर बताया गया था। विज्ञापन पर लाखों रू खर्च किये गये.  वहीं कार्यक्रम का लाइव प्रसारण के लिए बिहार की दो रिजनल चैनलों को हायर किया गया था। इस पर भी सरकार की मोटी रकम खर्च हुई। यानि नीतीश कुमार का चेहरा चमकाने को लेकर कोई कसर नहीं छोड़ी गई। इसी कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने केंद्र की सरकार और बीजेपी नेताओं पर तंज कसा और कहा कि ऊपर वालों ने मीडिया पर कब्जा कर लिया है. सिर्फ उन्हीं की खबरें छपती हैं. हमारे अच्छे कामों की भी मीडिया में चर्चा नहीं होती। 

नीतीश ने पुराने दौर की बात को किया याद,मीडिया से भी याद कराने को कहा 

ज्ञान भवन में आयोजित स्वास्थ्य विभाग के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सीएम नीतीश ने कहा कि हम लोग अपने बल पर बिहार को विकसित करने की कोशिश कर रहे हैं. जो भी संभव है उससे आगे बढ़ाने का प्रयास कर रहे. मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे प्रेस वाले लोग मौजूद हैं.इनको तो हम बराबर नमन करते हैं. हमरा बतवा तो एकाध बार ही छपता है. बात तो उनकी छपती है न....। जो लोग करते नहीं हैं, उन्हीं की बात छपती है. नीतीश कुमार ने लालू-राबड़ी राज का नाम लिये बिना कहा कि  पहले पटना में रहते थे... चलते थे... तो कैसा लगता था. नीतीश ने पूछा पटना कोई दुकान था जी? शाम होते सब बंद रहता था. आजकल देख रहे हैं कितना ज्यादा विकसित हो रहा है.

बिहार में हुए काम का करें बखान 

नीतीश कुमार ने कहा कि हम तो प्रार्थना कर रहे हैं. ऊपर वालों का जो प्रचार चलता है चलाइए, लेकिन बिहार में जो काम हुआ है, कृपा करके उसको चला दें ताकि नई पीढ़ी को जानकारी रहेगी. आज देखिए कितनी महिलाएं यहां पर मौजूद हैं. पहले क्या बुरा हाल था पढ़ाई का. पत्रकारों से सीएम नीतीश ने कहा कि मेरे खिलाफ जो बोलता है अंड-बंड उसको छापें, कोई दिक्कत हमको नहीं है, हमको कोई मतलब नहीं है .लेकिन बिहार का जो विकास हुआ है और जो काम किया गया है. उस बारे में जरूर बताइए। हम हाथ जोड़कर प्रार्थना करेंगे कि कृपा करके पुराने समय से लेकर अब तक जो काम हुआ उसका भी थोड़ी-थोड़ी चर्चा करते रहिएगा. आप भी बिहार के रहने वाले हैं. बिहार का भी ख्याल करिएगा.बिहार का कितना बड़ा बड़ा पत्रकार केंद्र में रहता है. उन लोगों से भी कहेंगे कि मेरे खिलाफ जितना बुलवाना है बोलवायें हम कोई दिक्कत नहीं, लेकिन बिहार का विकास हुआ है उसकी चर्चा जरूर करें.

Find Us on Facebook

Trending News