Bihar Crime News : अब बिहार पुलिस ड्रोन से पकड़ेगी अवैध शराब, डिजिटल मैपिंग से होगी निगरानी

Bihar Crime News : अब बिहार पुलिस ड्रोन से पकड़ेगी अवैध शराब, डिजिटल मैपिंग से होगी निगरानी

पटना: आप को बता दें  अब राज्य के अंदर शराब की बड़ी खेप या फैक्ट्री पकड़े जाने पर उस जगह की जिओ टैगिंग की जाएगी. इसके जरिए उस जगह को डिजिटल मैप पर चिह्नित कर दिया जाएगा, ताकि आगे उस जगह की निगरानी की जा सके. इसमें ड्रोन की भी मदद ली जाएगी. मद्य निषेध विभाग व पुलिस अधिकारियों के अनुसार, एक पखवारे में यह सुविधा शुरू हो जाएगी. ग्रामीण इलाकों में शराब का धंधा रोकने में इससे मदद मिलेगी.

मद्य निषेध विभाग अधिकारियों के अनुसार, बिहार में पंजाब, हरियाणा और अन्य राज्यों से आने वाली शराब में कमी आई है. इससे कई जिलों में धंधेबाज स्थानीय स्तर पर देसी-विदेशी शराब बनाने लगे हैं. खासकर गांवों और दीयर क्षेत्र में शराब की खेप छिपाकर रखी जा रही है. पिछले दो-तीन माह में पुलिस ने ऐसे कई ठिकानों को छापेमारी कर चिह्नित किया है. शहर और मुख्य सड़क से दूर होने के कारण यह इलाके शराब के धंधेबाजों के लिए मुफीद थे. ऐसे में पुलिस ने इन जगहों की निगरानी की जरूरत महसूस की जिसके बाद जिओ टैगिंग की पहल की गई.'

जिओ टैगिंग होने पर ऐसे सुदूरवर्ती इलाकों की निगरानी मुख्यालय स्तर पर एक क्लिक पर की जा सकेगी. अवैध शराब के लिए कुख्यात इलाकों की ड्रोन से तस्वीरें और वीडियो ली जाएंगी। लगातार निगरानी होगी ताकि दोबारा शराब का कारोबार शुरू न किया जा सके। पुलिस ऐसे ठिकानों की सूची भी बना रही है.मद्य निषेध विभाग और इकाई ने पिछले ढाई माह में 4.29 लाख लीटर शराब पकड़ी है. इसमें 1.52 लाख लीटर देशी और 2.77 लाख लीटर विदेशी शराब है.अब देखना ये है की ड्रोन वाला फार्मूला कितना कामयाब रहता है. 




Find Us on Facebook

Trending News