पंचायती राज चुनाव: जाति प्रमाण पत्र नहीं बना तो युवक ने रातों-रात कर ली शादी, दुल्हन को मुखिया बनाने का दिया वचन

पंचायती राज चुनाव: जाति प्रमाण पत्र नहीं बना तो युवक ने रातों-रात कर ली शादी, दुल्हन को मुखिया बनाने का दिया वचन

गया. बिहार में पंचायत चुनाव में कई रंग देखने को मिल रहे हैं. इसमें सबसे ज्यादा चर्चा युवा वर्ग की हो रही है, जो कि सरकार में अपनी हिस्सेदारी पाने के लिए हर कोशिश कर रहे हैं. पंचायत चुनाव के दौरान गया में युवक में मुखिया बनने के इतनी हड़बड़ी दिखी की युवक बिना मुहूर्त के ही भगवान सूर्य को साक्षी मानकर शादी कर ली और नई नवेली दुल्हन को पंचायत चुनाव के लिए नामांकन करा दिया.

शादी के दौरान युवक ने यह वचन दिया कि उसकी जिमेदारी है वह उसे पंचायत चुनाव में जीत दिलाएगा. यह मामला जिले के खिजरसराय प्रखंड के खोरम पंचायत के बिंददौर गांव की है. जहां प्रदीप कुमार उर्फ राहुल कुमार पंचायत चुनाव में मुखिया बनना चाहता है, मुखिया बनने के लिए राहुल ने पूरी तैयारी भी कर ली है. नामांकन के दौरान उसे पता चला कि जाति प्रमाण पत्र संकलन करना होगा, लेकिन किसी कागज की कमी होने के कारण का जाति प्रमाण पत्र नहीं बन पाया.

उसके बाद राहुल कुमार ने आनन-फानन में नौडीहा गाँव की ही दांगी समाज की सरिता कुमारी से बिना लगन और बैंड बाजा के ही सूर्य मंदिर में शादी कर ली. इस शादी में वर-वधू पक्ष के लोग मौजूद थे. दुल्हन के पास जाति प्रमाणपत्र है, इसलिए वह चुनाव लड़ सकेगी. राहुल ने अपनी नई नवेली पत्नी को मुखिया पद के लिए नामांकन कराने का फैसला किया है.

बता दें कि राहुल चुनाव लड़ने की तैयारी को लेकर काफी दिनों से गांव में घूम घूम कर जनसंपर्क कर रहा था, लेकिन अचानक अपने जाति प्रमाण पत्र नहीं बन पाने की खबर सुनकर वह परेशान हो गया. राहुल को हर हाल में चुनाव लड़ना ही था. अभी शादी को चुनावी शादी कहा जा रहा है इसकी चर्चा हर ओर हो रही है.

Find Us on Facebook

Trending News