वास्तु के अनुसार घर में लगायें पेड़ –पौधे, सकारात्मक ऊर्जा और खुशहाली का कारक है वृक्षारोपण

वास्तु के अनुसार घर में लगायें पेड़ –पौधे,  सकारात्मक ऊर्जा और  खुशहाली का कारक है वृक्षारोपण

डेस्क:-प्रकृति को हम साक्षात ईश्वर मानते है। अगर प्रकृति है तो ही इस संसार में हम जी रहें है. प्रकृति का दर्शन हम ईश्वर के विभिन्न स्वरूपों में देख सकते है .प्रकृति के करीब हम जितना रहेंगे हम उतना स्वस्थ रहेंगे . पेड़-पौधे सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह करते हैं. पेड़-पौधे अगर सही दिशा में लगे हों तो यह घर के वास्तु दोष दूर करते हैं। गलत दिशा में लगे पेड़-पौधे नकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न कर सकते हैं. 

बहुत ऊंचे या फलदार वृक्ष का संबंध सूर्य से माना जाता है। तुलसी के पौधे को मां लक्ष्मी का रूप माना गया है। यदि घर में नकारात्मक ऊर्जा है तो तुलसी का पौधा उसे दूर कर देता है। यह भी मान्यता है कि केले के पेड़ की छांव में यदि विद्यार्थी पढ़ाई करते हैं तो उन्हें जल्दी याद हो जाता है। यह स्मरण शक्ति को बढ़ाता है। घर या घर के आसपास नीम का पेड़ होना शुभ माना जाता है। यह पॉजिटिव एनर्जी प्रदान करता है। 

वास्तु शास्त्र के अनुसार, घर में पीपल का पेड़ लगाना उचित नहीं माना जाता है। पीपल का पेड़ घर में होने से धन की हानि हो सकती है।  पीपल का पौधा को मंदिर के पास लगाना सही माना गया है। कैक्टस को घर में लगाना अशुभ माना जाता है। घर में बांस का पेड़ भी नहीं लगाना चाहिए। इसके लगाने से बनते कार्यों में बाधाएं आने लगती हैं। गलती से भी घर में बेर का पेड़ नहीं लगाना चाहिए। घर में या घर के पास बेर, पाकड़, बबूल, गूलर आदि कांटेदार पेड़ लगे होने से परिवार में कलह बढ़ सकती है। गुलाब इसका अपवाद है। घर की सीमा में आम और अमरूद के वृक्ष को छोड़कर कोई भी फलदार वृक्ष नहीं होना चाहिए। दूध वाले वृक्ष भी घर में या घर के आसपास नहीं होने चाहिए। घर के पास कांटेदार वृक्ष लगाने से भय उत्पन्न होता हैं।इसीलिए जितना हो सके पेड़ –पौधे लगाये और स्वस्थ जीवन जीये.

Find Us on Facebook

Trending News