पीएम मोदी ने पेश किया रिपोर्ट कार्ड, कहा- जनपथ नहीं जनमत से चल रही है हमारी सरकार

पीएम मोदी ने पेश किया रिपोर्ट कार्ड, कहा- जनपथ नहीं जनमत से चल रही है हमारी सरकार

CUTTACK : अपनी सरकार के 4 साल के कार्यकाल के पूरा होने के मौके पर पीएम   नरेन्द्र मोदी ने ओडिशा के कटक से रिपोर्ट कार्ड पेश किया। पीएम मोदी ने मंच से इशारों-इशारों में विपक्षी एकता पर भी प्रहार किया। उन्होंने कहा कि   कालाधन और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई से कट्टर दुश्मन भी दोस्त बन गए हैं। देश की जनता सब देखती है, सब समझती है। भ्रष्टाचार के खिलाफ चल रही जांच की वजह से इस देश में 4 पूर्व मुख्यमंत्री जेलों में हैं। भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई की वजह से कुछ लोग एक मंच पर जमा हुए हैं, इनमें से कुछ घोटाले के आरोप में जमानत पर है। पीएम मोदी ने एक तरह अपनी सरकार की उपलब्धियों का जमकर बखान किया तो दूसरी ओर कांग्रेस पर भी जमकर हमला बोला। मनमोहन सरकार में सोनिया गांधी के दखल पर इशारों में तंज कसते हुए पीएम मोदी ने कहा कि हम जनपथ से नहीं बल्कि जनपथ से सरकार चलाते हैं। कालेधन और करप्शन के खिलाफ अपनी सरकार की मुहिम को लेकर उन्होंने कहा कि हमने JAM यानी जनधन, आधार और मोबाइल के जरिए 80,000 करोड़ रुपये गलत हाथों में जाने से बचाए हैं। यूपीए सरकार से तुलना करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि यह सरकार कनफ्यूजन वाली नहीं बल्कि कमिटमेंट वाली सरकार है।

PM-MODI-PRESENTED-THE-REPORT-CARD-SAID--OUR-GOVERNMENT-IS-PEOPLE-GOVENMENT2.jpg

 मोदी ने कहा, 'कमिटमेंट वाली सरकार चलती है, तब देश का राजकोषीय घाटा कम करने का प्रयास सफल होता है। कालेधन और करप्शन के खिलाफ हमारी सरकार जिस तरह लड़ाई लड़ रही है, उसने कैसे कट्टर दुश्मनों को भी दोस्त बना दिया है। यह जनता देख रही है।' पीएम मोदी ने कहा, '45,000 करोड़ से ज्यादा अघोषित आय का पता चला है। बेनामी संपत्ति लागू होने के बाद 3,500 करोड़ रुपये से ज्यादा की संपत्ति को जब्त किया जा चुका है। पहले यह कल्पना थी कि बड़े लोगों को तो कुछ होता ही नहीं। लेकिन आज 4 पूर्व मुख्यमंत्री जेल के अंदर हैं।  पीएम मोदी ने कहा, '4 सालों ने देश के लोगों में यह भरोसा पैदा किया है कि स्थितियां बदल सकती हैं, हिंदुस्तान बदल सकता है। देश निराशा से आशा, सुशासन से कुशासन, कालेधन से जनधन की ओर तेज गति से बढ़ रहा है। कामाख्या, कन्याकुमारी, बलिया, बीदर, बाड़मेर तक यह सरकार सबका साथ सबका विकास के लए काम कर रही है। यह वह एनडीए सरकार है, जिसके लिए गरीबों का पसीना गंगा, यमुना, नर्मदा के जल की तरह पवित्र है।पीएम ने अपनी सामान्य पृष्ठभूमि का जिक्र करते हुए कहा, 'हम गरीबी झेल कर आए हैं, इसलिए हमारे लिए उनका कल्याण ही हमारे लिए प्रतिबद्धता है। यह ऐसी सरकार है, जिसमें राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री का जीवन एक-एक पैसे की चिंता करते हुए बीता है। चांदी के चम्मच की कहावत को तो छोड़िए हमने तो बचपन ऐसे गुजारा है, जहां चम्मच तक नहीं देखा है।

Find Us on Facebook

Trending News