बाढ़ पीड़ितों ने बताया अपना दर्द: घरों में पानी प्रवेश कर गया है... न तो कोई मदद मिली न ही कोई मिलने आया, अब मजबूरन प्रदर्शन करना पड़ रहा है

बाढ़ पीड़ितों ने बताया अपना दर्द: घरों में पानी प्रवेश कर गया है... न तो कोई मदद मिली न ही कोई मिलने आया, अब मजबूरन प्रदर्शन करना पड़ रहा है

छपरा. गरखा प्रखण्ड के मीरपुर जुअरा गांव के बाढ़ पीड़ित दलित बस्ती के लोगों ने प्रखण्ड प्रशासन एवं जन प्रतिनिधियों के खिलाफ प्रदर्शन कर अपनी नाराजगी जाहिर की है. बाढ़ पीड़ितों का आरोप है कि दस दिनों से हमलोग बाढ़ से प्रभावित है. घरों में पानी प्रवेश कर गया है, लेकिन अब तक कोई भी पदाधिकारी एवं जन प्रतिनिधि देखने तक नहीं आया है.

उनका कहना है कि बाढ़ के कारण एक तरफ घर में पानी है, वहीं कहीं काम भी नहीं मिल पा रहा, जिससे हम लोगों के सामने भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गयी है. वार्ड सदस्य द्वारा इसके लिए प्रयास किया गया, लेकिन किसी ने आकर निरीक्षण तक नहीं किया गया. न स्थानीय मुखिया ही आए और न ही प्रखण्ड प्रशासन के तरफ से ही कोई पदाधिकारी आया. अगर जल्द हम लोगों को राहत सामाग्री एवं मुआवजा उपलब्ध नही कराया गया तो हम लोगों के सामने भुखमरी की स्थिति हो जाएगी और मजबुरन हमलोग आंदोलन एवं आमरण अनशन करने को मजबूर हो जाएंगे.

प्रदर्शन करने वालों मे मुख्यरुप से जयप्रकाश मांझी, टुनटुन माँझी, मंजेश माँझी, किशुनदेव माँझी, कैलाश माँझी, प्रमोद माँझी, परमा माँझी, तारा माँझी, हरिभजन माँझी, मुन्ना माँझी, लालेश माँझी, सर्वजीत माँझी, राजाराम माँझी, सुमित्रा देवी, मंजु देवी, मालती देवी, लालमुनी कुँवर आदि शामिल थे. इस संबंध मे गरखा सीओ जावेद आलम ने बताया कि जल्द ही प्रभावित इलाकों का निरीक्षण कर सरकारी सहायता उपलब्ध कराया जाएगा. वहीं स्थानीय मुखिया से संपर्क नहीं हो सका.

Find Us on Facebook

Trending News