प्रशांत किशोर के ट्वीट पर राबड़ी का हमला, कहा-लालू से कई बार मिले थे पीके, जेडीयू का राजद में कराना चाहते थे विलय

प्रशांत किशोर के ट्वीट पर राबड़ी का हमला, कहा-लालू से कई बार मिले थे पीके, जेडीयू का राजद में कराना चाहते थे विलय

PATNA :  जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पीके के ट्वीट ने एकबार फिर प्रदेश की राजनीति को गर्म कर दिया है। पीके के ट्वीट को लेकर राजद पीके पर हमलावर हो गई है। एक ओर जहां नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी ने हमला बोला है वहीं पूर्व सीएम राबड़ी देवी ने प्रशांत किशोर सबसे बड़ा झूठा करार दिया है। 

राबड़ी देवी ने कहा है कि प्रशांत किशोर एक-दो बार नहीं पूरे पांच बार लालूजी से मिले थे। प्रशांत किशोर ने लालूजी से कहा था कि 2019 का लोकसभा चुनाव वे राजद के साथ मिलकर लड़ना चाहते है। उन्होंने कहा कि पीके ने उनके सामने यह शर्त रखते हुए कहा कि आप 2019 के चुनाव में नीतीश कुमार को पीएम चेहरा के तौर पर प्रोजेक्ट कीजिए। जेडीयू का राजद में विलय कर दिया जायेगा। 

पूर्व सीएम ने कहा है कि नीतीश के राज में घोटाला पर घोटाला हो रहा है। जनता इस चुनाव में उनको सबक सिखाने जा रही है। बिहार की जनता नीतीश के धोखेबाजी का जवाब देने का मन बना चुकी है। बीजेपी-जेडीयू का पूरा सफाया तय है। 

आपको बता दें कि राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की पत्नी और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने बड़ा खुलासा करते हुए कहा है कि नीतीश कुमार प्रधानमंत्री बनना चाहते थे और इसके लिए वह लालू यादव से बड़ी डील करना चाहते थे और इसके लिए उन्होंने अपना दूत बनाकर प्रशांत किशोर को हमारे घर भेजा था। लेकिन मैंने उन्हें भगा दिया था। लालू प्रसाद ने भी अपनी बायोग्राफी 'गोपालगंज टु रायसीना: माइ पॉलिटिकल जर्नी' में दावा किया है कि नीतीश ने महागठबंधन में वापसी के लिए कई बार अपने विश्वासपात्र प्रशांत किशोर (पीके) को उनके पास दूत बनाकर भेजा था।

राजद के इस खुलासे के बाद प्रशांत किशोर भी खुलकर मैदान में आ गए है। उन्होंने ट्वीटर के माध्यम से लालू के ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा है कि  झूठ और फरेब के कारण जनता ने आपको नकार दिया। आप झूठी अफवाहों और खबरों को फैलाना बंद करें। 

गणेश सम्राट की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News