DGP भट्टी के सामने आई सबसे बड़ी चुनौती ... बिहार में घूम रहे चीन के जासूस ! दलाईलामा को निशाना बनाने की तैयारी

DGP भट्टी के सामने आई सबसे बड़ी चुनौती ... बिहार में घूम रहे चीन के जासूस ! दलाईलामा को निशाना बनाने की तैयारी

पटना. बिहार में चीन का जासूस घूमने की खबर आई है. चीन के जासूसों के निशाने पर तिब्बती आध्यात्मिक नेता दलाई लामा बताए जा रहे हैं. एक चीनी महिला का स्केच भी जारी हुआ है. चीनी महिला की पहचान सॉन्ग शियाओलन के रूप में की गई है. लेकिन उसकी स्पष्ट पहचान अभी तक नहीं हो पाई है. दलाई लामा इन बिहार में हैं. वे बोधगया में हैं जहाँ दुनिया भर से श्रद्धालु आए हुए हैं. बिहार पुलिस ने पुलिस ने पिछले हफ्ते से दलाई लामा की बोधगया यात्रा के बीच सुरक्षा अलर्ट जारी किया था. 

अब कहा जा रहा है कि दलाईलामा को निशाना बनाने के लिए चीन के जसूस को भारत भेजा गया है. दलाई लामा पिछले सप्ताह बोधगया पहुंच कोविड-19 महामारी के कारण दो साल के अंतराल के बाद बौद्ध पर्यटन शहर के अपने वार्षिक दौरे को फिर से शुरू किया.दलाई लामा 29 से 31 दिसंबर तक कालचक्र मैदान में प्रवचन देने वाले हैं. सुरक्षा को लेकर वहां सख्त इंतजाम भी किए गए हैं. इस बीच चीन के जासूस के बिहार में होने की खबर से पुलिस महकमे में खलबली मचने की खबर है. फ़िलहाल इस मुद्दे पर किसी बड़े अधिकरी की ओर से कुछ नहीं बयान जारी नहीं हुआ है.  हालांकि कहा गया है कि जासूस महिला का visa no 901BAAB2J और PP No EH2722976 है. अगर इस चीनी महिला के संबंध में कोई भी जानकारी प्राप्त हो तो कृपया बोधगया पुलिस (9431822208) या वरीय पुलिस अधिकारियों को  सूचित करें.

नोबेल पुरस्कार विजेता के ठहरने के मद्देनजर सुरक्षा के कड़े इंतजाम हैं, जिनके प्रवचन स्थल पर जनवरी 2018 में कम तीव्रता वाले विस्फोट से दहल गया था. इस बीच, स्वास्थ्य विभाग ने बोधगया में कोविड प्रोटोकॉल को लागू करने की कवायद तेज कर दी है, जहां दुनिया भर के अनुयायियों के प्रवचनों में शामिल होने की उम्मीद है.

ऐसे में इसे बिहार के डीजीपी बने आरएस भट्टी के लिए सबसे बड़ी चुनौती माना जा रहा है. भट्टी ने बिहार के डीजीपी का पदभार सँभालने के बाद बिहार में पुलिस को अपराध नियन्त्रण के लिए कई टिप्स दिए हैं. लेकिन उनकी पुलिस के सामने यह पहला मौका है जब चीन के जासूस के बिहार में होने की खबर सामने आई है. ऐसे में इस मामले को सुलझाने के लिए बिहार पुलिस के साथ ही केंद्रीय एजेंसियों का भी सहयोग लिया जा सकता है. 


Find Us on Facebook

Trending News