नेता के खिलाफ केस दर्ज कराने वाले CO को सरकार ने दूसरे केस में कर दिया निलंबित, DM की रिपोर्ट पर हुई कार्रवाई

नेता के खिलाफ केस दर्ज कराने वाले CO को सरकार ने दूसरे केस में कर दिया निलंबित, DM की रिपोर्ट पर हुई कार्रवाई

PATNA: दबंगों के आगे नहीं झुकने वाले अंचलाधिकारी को सरकार ने दूसरे मामले में सस्पेंड कर दिया है। राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग ने अवैध जमाबंदी कायम करने के आरोप में दाऊदनगर के अंचलाधिकारी विजय कुमार को सस्पेंड कर दिया है। जिलाधिकारी की रिपोर्ट पर यह कार्रवाई की गई है। बता दें, दाउदनगर के सीओ ने दबंगों के आगे झुकने से इनकार कर दिया था। साथ ही थाने में स्थानीय नेता के खिलाफ केस दर्ज कराया था। 

राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग ने किया निलंबित 

औरंगाबाद के जिलाधिकारी ने 10 जून 2022 को दाउदनगर के अंचलाधिकारी विजय कुमार के खिलाफ विभाग में रिपोर्ट किया था . आरोप था कि सीओ ने बाबूराम दुसाध के नाम से अवैध जमाबंदी कायम किया था। साथ ही बिना सक्षम प्राधिकार के आदेश के जमाबंदी कायम करने और जमाबंदी कायम कर दोहरी लगान रसीद निर्गत करने, अवैध जमाबंदी के संबंध में अपर समाहर्ता औरंगाबाद को अवगत नहीं कराने जैसे गंभीर आरोप मिले थे. इसके बाद अब उन्हें निलंबित कर दिया गया है. बताया जाता है कि बेशकीमती जमीन को लेकर नेता और अंचलाधिकारी के बीच विवाद हुआ था। यह भी बताया जाता है कि अँचलाधिकारी पर दबाव डालकर रिपोर्ट अपने पक्ष में कराने की कोशिश की जा रही थी। जब सीओ ने इनकार कर दिया तो एक बड़े अधिकारी की सेटिंग से यह पूरा खेल हुआ.

17 जून को सीओ ने स्थानीय नेता के खिलाफ दर्ज कराया था 

बता दें, दाउदनगर अंचलाधिकारी विजय कुमार ने 17 जून को स्थानीय नेता के खिलाफ दाउदनगर थाने में केस दर्ज कराया था। पुलिस ने आरोपी नेता व बॉडीगार्ड के खिलाफ धारा 341, 323, 353, 504, 506,186,189 और 427 के तहत केस दर्ज किया था. अपराध सरकारी कार्य में बाधा डालने की है। सीओ विजय कुमार ने दाउदनगर पुलिस को दिये आवेदन में कहा था कि प्रकाश चंद्रा व उनके हथियारबंद बदमाशों ने दफ्तर से जबरन उठाने का प्रयास किया। सीओ ने आवेदन में बताया कि 15 जून को वे अपने कार्यालय में बैठकर काम कर रहे थे. इसी बीच मेरे निजी मोबाइल पर प्रकाश चंद्रा का फोन आया. हम फोन नहीं उठा पाये, क्योंकि मैं ऑफिशियल नंबर पर किसी दूसरे व्यक्ति से बात कर रहा था. इसी बीच अंचल अमीन के मोबाइल से मेरे सरकारी नंबर पर फोन आया. मुझे बताया गया कि प्रकाश चंद्र बात करना चाहते हैं. जब मैंने बात करनी शुरू की तो प्रकाश चंद्रा गाली गलौज करने लगा. साथ ही मुझे अपने ऑफिस में बुलाया.

दाउदनगर थाने में केस दर्ज 

दाउदनगर सीओ ने कहा है कि फोन कटने के 5 मिनट के अंदर ही प्रकाश चंद्रा के हथियारबंद गुंडे मेरे दफ्तर पहुंच गए. वे लोग मेरे साथ बदतमीजी करने लगे.इतना ही नहीं वे लोग हमें जबरन उठाकर ले जाने का प्रयास करने लगे. इस दौरान हाथापाई होने लगी. अंचल गार्ड की सहायता से किसी तरह से हमारी जान बची. इसके बाद मुझे धमकी देते हुए और हथियार लहराते हुए सभी भाग गए. इस दौरान कई आवश्यक कागजातों को भी नष्ट कर दिया गया है. इस संबंध में हमने तत्काल इसकी जानकारी औरंगाबाद डीएम को दी. सीओ के आवेदन पर प्रकाश चंद्रा, चिंटू मिश्रा, मनीष कुमार व 3 अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज हुआ था। 

Find Us on Facebook

Trending News