नीति आयोग की डेल्टा रैकिंग में बिहार के इस जिले को मिला दूसरा स्थान, बेहतर काम के लिए मिली इतनी करोड़ की राशि

नीति आयोग की डेल्टा रैकिंग में बिहार के इस जिले को मिला दूसरा स्थान, बेहतर काम के लिए मिली इतनी करोड़ की राशि

KHAGDIYA : देश के पिछड़े जिले में से एक खगड़िया जिला केन्द्र सरकार के प्रयास से तेजी से विकास की और आगे बढ़ रहा है। सरकार के प्रयास से जहां स्वास्थ्य सुविधा में बदलाव हुआ है,तो वही आधारभूत संरचना में भी सुधार हुआ है। पिछले माह डेल्टा रैकिंग में खगड़िया पूरे देश में दूसरा स्थान हासिल करने का गौरव प्राप्त किया है। 

आपको बता दें खगड़िया जिला बिहार राज्य के उन जिलो में शामिल है जहां हर साल चार से पांच माह बाढ़ से लोग प्रभावित रहते हैं। यहां से गंगा,कोसी,बागमती,गंडक समेत पांच बड़ी नदियां गुजरती है। इसके कारण यहां के लोगों का उतना विकास नही हो पा रही थी। लेकिन केन्द्र सरकार के द्वारा आकांक्षी जिला धोषित किये जाने के बाद यहां पर विकास का तेजी से काम हो रहा है। बताया जाता है कि कभी देश के पिछडे़ जिले में डेल्टा रैकिंग में 105 स्थान रखनेवाला यह जिला अब कभी पहला तो कभी दूसरा स्थान विकास के मामले में रह रहा है। लेकिन पिछले माह डेल्टा रैकिंग में पूरे देश में खगड़िया दूसरा दूसरा स्थान पर रहा है। 

जिलाधिकारी आलोक रंजन धोष   ने कहा कि खगड़िया बाढ़ प्रभावित जिला है। यहां चार से पांच माह लोग बाढ़ से प्रभावित रहते हैं। इसलिएं यहां पर विकास का कार्य जितनी गति से होनी चाहिएं थी वह नही हो पा रही थी। देश के आकांक्षी जिले में शामिल ल खगड़िया जिला में अब तेजी से विकास हो रहा है। आकांक्षी जिलों में खगड़िया ने देश में पहला स्थान भी हासिल किया था। इस बार डेल्टा रैकिंग में दूसरा स्थान प्राप्त किया है। उन्होने कहा कि खगड़िया जिला राज्य का ऐसा जिला है जिसे डेल्टा रैकिंग में बेहतर प्रदर्शन के लिए केन्द्र सरकार के द्वारा 23 करोड़ का पुरूस्कार मिला है। 

इस राशि में से करीब 20 करोड़ की निविदा की भी तैयारी पूरी हो गयी है। उन्होने कहा कि पिछले माह हमलोगों ने स्वास्थ्य और प्रधानमंत्री आवास योजना के कार्य को बेहतर काम किया। स्वास्थ्य मामले में हमने गर्भवती महिलाओं को चार जांच होती है उसके जांच पर जोड़ दिया और इसमें काफी सुधार हुआ। उन्होने कहा कि गर्भवती महिलाओं के ऐल्टीनेटल चेकअप पर सुधार किये। गर्भवती महिलाओं को चार नियमित रूप से जांच हो जाय हो इस मामले में हम पिछड़ रहे थे और एएनएम को उसमें से जोड़ा और इसमें विषेष प्रयास किया। 

इसके अलावे प्रधानमंत्री आवास योजना एवं इंदिरा आवास में हमने गृह प्रवेश और भूमिपूजन का कार्य शुरू किया। इनफ्रंस्टाक्चर और हेल्थ में हमने जो काम किया उसका अच्छा परिणाम मिला और इसक डेल्टा रैकिंग पर असर पर पड़ा। 

सिविल सर्जन अमरनाथ झा ने बताया कि आकांक्षी जिला होने के कारण खगड़िया में स्वास्थ्य सेवा में आमूल चूल परिवर्तन हुये हैं। उन्होने कहा कि सुरक्षित प्रसव को लेकर जहां गर्भवती महिलाओं को एनसी जांच करायी जाती है,वही अन्य जांच भी करायी जाती है। उन्होने कहा कि अन्य बीमारियों का भी तेजी से इलाज किया जा रहा है।

जिले के उप विकास आयुक्त संतोष कुमार ने बताया कि खगड़िया जिले को इस साल प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सात हजार नौ से उनतीस का लक्ष्य प्राप्त हुआ था, उसमें से सात हजार चार सौ बेरासी की स्वीकृति दी गयी है। इस योजना के लाभार्थियों को एक लाख तीस हजार की राषि दी जाती है। मनरेगा सभी इसमें कार्य दिया जाता है। उन्होने कहा कि इस योजना के लगातार मोनिटरिंग करने से अच्छा परिणाम सामने आया है।

आशा कार्यर्कर्ता ने बताया कि सुरक्षित प्रसव को लेकर हमलोगों के द्वारा गांवों में गर्भवती महिलाओं को जागरूक कर अस्पताल लाकर उसकी जांच कराते हैं। जांच का अच्छा परिणाम भी समाने आ रहा है। पहले जहां गर्भवती महिलाओं को प्रसव के दौरान मौत की खबरे आती रहती थी,लेकिन अब ऐसी नही होती है।

समाजिक कार्यकर्ता ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग और हमलोगों के द्वारा जागरूक करने का नतीजा है कि महिलाएं अब खुद भी सुरक्षित प्रसव को लेकर शिविर में जांच कराने जाती है और इसका परिणाम भी सकारात्मक दिखने लगा है। उन्होने कहा कि  स्वास्थ्य विभाग के द्वारा माह के 9 तारीख को शिविर लगने से गर्भवती महिलाओं की न सिर्फ मुफ्त जांच हो जाती है,बल्कि उसको खान-पान की भी सलाह दी जाती है।

Find Us on Facebook

Trending News