माउंटेन मैन दशरथ मांझी की 15 वीं पुण्यतिथि पर गया में निकाली गयी श्रद्धांजली रैली, लोगों ने की भारत रत्न देने की मांग

माउंटेन मैन दशरथ मांझी की 15 वीं पुण्यतिथि पर गया में निकाली गयी श्रद्धांजली रैली, लोगों ने की भारत रत्न देने की मांग

GAYA : माउंटेन मैन के रूप में मशहूर दशरथ मांझी की 15 वीं पुण्यतिथि के मौके पर एक बार फिर भारत रत्न की मांग को लेकर गया मोटरसाइकिल रैली निकाली गई। रैली गया जिला के विभिन्न प्रखंडों से निकाला गया। जिसमें हजारों लोग शामिल हुए। इस रैली को बिहार सरकार के मंत्री संतोष कुमार सुमन ने हरी झंडी दिखाकर गया के आजाद पार्क से रवाना किया।  श्रद्धांजलि रैली को बेलागंज खिजरसराय के रास्ते पवित्र समाधि स्थल तक गया।


इस मौके मंत्री संतोष कुमार सुमन ने कहा की पर्वत पुरुष दशरथ मांझी बिहार के लिए गौरव है। उन्होंने राज्य के सुदूर इलाके गेहलौर घाट में रहकर भी देश दुनिया में अपना लोहा मनाने का काम किया। पर्वत पुरुष दशरथ मांझी के अधूरे सपने को पूरा करने के लिए संकल्पित होकर उनके प्रेरणा को अपनाना एवं उस पर अमल करने की जरूरत है। आज के वर्तमान स्थिति में समाज के उत्थान एवं मुख्य धारा में लाने के लिए उनके विचारों पर अमल करने की जरूरत है।  उनकी जिद्द ने उनको दुनिया के महान हस्तियों में शुमार कर दिया। उन्होंने कहा की हाड़ मांस का इंसान दृढ़ इच्छाशक्ति के बल पर पहाड़ को भी काटकर रास्ता बना सकते हैं।

वहीँ आयोजन समिति के अध्यक्ष शंकर मांझी ने कहा की यह रैली प्रत्येक वर्ष निकलती है और गया जिला के अलग-अलग मार्गों से गुजरती है। हम लोग बाबा के अनुयाई हैं और उनके जीवन से प्रेरित होकर प्रत्येक वर्ष माल्यार्पण के लिए गेहलौर घाट जाते हैं।

मंच के अध्यक्ष ई. नंदलाल मांझी ने कहा कि पर्वत पुरुष हमारे बिहार के आन बान शान है। उन्होंने साबित कर दिया की मन में अगर दृढ़ इच्छाशक्ति हो तो पहाड़ को भी सीना चीर कर रास्ता बनाया जा सकता है। दिल्ली दूर हो तो पैदल दिल्ली भी जाया जा सकता है। यह केवल और केवल दृढ़ इच्छाशक्ति और संकल्प से ही संभव है। आज युवाओं को जीवन में सफलता के लिए उनके बताए हुए मार्गों को अपनाने की आवश्यकता है। इस मौके पर पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी सहित पार्टी के कई कार्यकर्ता मौजूद थे।

गया से मनोज कुमार की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News