गिरिराज सिंह को आया गुस्सा तो अमित शाह की बैठक छोड़कर चले गये, भाजपा नेता रह गये हक्का-बक्का

गिरिराज सिंह को आया गुस्सा तो अमित शाह की बैठक छोड़कर चले गये, भाजपा नेता रह गये हक्का-बक्का

पटना. गृह मंत्री अमित शाह ने पूर्णिया में जन भावना रैली को संबोधित किया। जनसभा को संबोधित करते हुए अमित शाह ने लालू-नीतीश पर जमकर प्रहार किया। इस बैठक के बाद किशनगंज मेडिकल कॉलेज में गृहमंत्री के साथ अन्य भाजपा नेताओं की बैठक आयोजित थी। इसको लेकर भाजपा नेता बैठक में पहुंच रहे थे। इस दौरान बैठक में शामिल होने के लिए केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह भी गाड़ी से पहुंचे, लेकिन सुरक्षा कर्मियों ने उन्हें वाहन के साथ जाने से रोक दिया। इस पर गिरिराज सिंह आग बबूला हो गये और सुरक्षाकर्मियों पर बरसे पड़े। इसके बाद वे सीधे अपनी गाड़ी से सर्किट हाउस लौट गये। हालांकि बाद में तारकिशोर प्रसाद और अन्य भाजपा के नेताओं ने उन्हें मनाया और गिरिराज सिंह बैठक में शामिल हुए।

लालू-नीतीश पर अमित शाह का निशाना 

पूर्णिया में जन भावना रैली अमित शाह ने नीतीश-लालू पर तंज कसते हुए कहा कि वो लोग कह रहे हैं कि मैं सीमांचल में झगड़ा लगाने के लिए आया हूं। इसके लिए मेरी जरूरत नहीं है। झगड़ा लगाने के लिए आप ही काफी हो। आप हमेशा झगड़ा लगाते रहे हो। अब नीतीश कुमार लालू यादव की गोदी में बैठे हैं। अब यहां डर का माहौल कायम हो गया है। सीमावर्ती जिला भी हिंदुस्तान का हिस्सा है। किसी को डरने की जरूरत नहीं है। नरेंद्र मोदी की सरकार है, यहां किसी को डरने की जरूरत नहीं है। यह जो भीड़ है लालू नीतीश के लिए चेतावनी का सिग्नल है। अमित शाह ने कहा कि बिहार की भूमि परिवर्तन का केंद्र रही है। कोई भी आंदोलन बिहार की धरती से शुरू हुई है। जब से नीतीश जी लालू के गोद में चले गये हैं तब से बिहार के सीमावर्ती जिलों में आशंका बनी हुई थी। हम सभी को कहने आए हैं, कोई डरिएगा नहीं. किसी की हिम्मत नहीं है जो सीमावर्ती जिलों में मनमानी करें।

अमित शाह ने नीतीश कुमार पर प्रहार करते हुए कहा कि मोदी जी ने बड़प्पन दिखाई थी। 2020 के चुनाव में हमसे आधी सीटें नीतीश कुमार को आई थी। फिर भी हमने आपको मुख्यमंत्री बनाया। मोदी जी ने अपना वादा निभाया था। जैसे ही लोकसभा का चुनाव नजदीक आया, आप कांग्रेस और लालू की गोदी में बैठ गए। आप क्या समझते हो... बिहार की जनता आप को समझती नहीं है? नीतीश बाबू आपको 8 साल पहले की बात याद कराना चाहता हूं। 2014 लोस चुनाव में आप को 2 सीटें आई थी। आप कहीं के नहीं रहे थे, ना घर के रहे थे ना घाट के। 2024 लोकसभा का चुनाव आने दो, मैं कहता हूं नीतीश लालू की जोड़ी को बिहार की जनता सूपड़ा साफ करने वाली है। 2025 के चुनाव में भी हम पूर्ण बहुमत के साथ बिहार में सरकार बनाएंगे।

गृह मंत्री ने कहा कि नीतीश कुमार किसी राजनीतिक विचारधारा के पक्षधर नहीं हैं। वे समाजवाद छोड़कर लालू जी के साथ भी जा सकते हैं, जातिवादी राजनीति कर सकते हैं। वामपंथियों के साथ भी बैठ सकते हैं। भाजपा में के साथ आ सकते हैं। उनकी एक ही नीति है कुर्सी मेरी सुरक्षित रहनी चाहिए। नीतीश जी इतने समय तक बिहार की जनता ने बेनिफिट आफ डाउट दिया है। अब जान गए हैं... अब चुनाव में ना लालू की पार्टी आएगी और ना आपकी पार्टी आने वाली है। बिहार में सिर्फ कमल खिलेगा। सीमांचल के जिलों में जनजातियों के साथ अत्याचार हो रहे हैं। उन्हें भगाया जा रहा है। मोदी की सरकार जो योजना भेज रही, वह भी जनजातियों के पास नहीं पहुंच रही है। हम यह कहने आया हूं की संथाल के गरीब घर में जन्मी द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति बनाया है। देशभर के गरीबों को सम्मान करने का काम किया है।


Find Us on Facebook

Trending News