JDU का दबाव और RJD का दिखावा ! 'नीतीश' की पोल खोलने में जुटे 'सुधाकर' को 15 दिनों की मोहलत...नेतृत्व की तरफ से यह सफाई

JDU का दबाव और RJD का दिखावा ! 'नीतीश' की पोल खोलने में जुटे 'सुधाकर' को 15 दिनों की मोहलत...नेतृत्व की तरफ से यह सफाई

PATNA: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ लगातार आग उगल रहे राजद के विधायक सुधाकर सिंह के खिलाफ नेतृत्व ने नोटिस जारी किया है। जवाब देने के लिए पंद्रह दिनों की मोहलत दी गई है। राजद के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव अब्दुल बारी सिद्दीकी ने सुधाकर सिंह को नोटिस जारी करते हुए लिखा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू यादव के संज्ञान में आया है कि एक बार फिर से आपने गठबंधन धर्म की मर्यादा का उल्लघंन किया है। ऐसा कर राजद नेतृत्व ने सहयोगी दल को थोड़े समय के लिए खुश होने का अवसर दे दिया है। नोटिस जारी होने मात्र से ही नीतीश कुमार की पार्टी खुश हो गई। 

जेडीयू का दबाव या सिर्फ दिखावा ? 

दरअसल, सुधाकर सिंह कई महीनों से सीएम नीतीश की पोल खोलने में जुटे हैं. पूर्व कृषि मंत्री सुशासन राज की पोल खोलने में कोई कोर-कसर बाकि नहीं रख रहे थे. वे मुख्यमंत्री को शिखंडी से लेकर भीखमंगा तक कहा था. सुधाकर सिंह लगातार नीतीश राज में हो रहे भ्रष्टाचार को लेकर अपनी बात रख रहे थे. इसके बाद भी राजद नेतृत्व की तरफ से सुधाकर सिंह को रोकने की खास कोशिश नहीं की गई. अपनी भद्द पिटते देख सीएम नीतीश से लेकर ललन सिंह उपेन्द्र कुशवाहा तक ने सुधाकर सिंह पर कार्रवाई को लेकर दबाव बनाया. काफी बयानबाजी और दोनों दलों के बीच भारी तकरार के बाद अब जाकर राजद नेतृत्व ने शो-कॉज नोटिस दिया और जवाब देने के लिए काफी समय यानि 15 दिनों की मोहलत दी है. क्या राजद नेतृत्व सहयोदी दल जेडीयू का दबाव आगे घुटने टेक दिया या फिर यह नोटिस सिर्फ दिखावे के लिए है ? इस पर राजनीतिक चर्चा शुरू हो गई है. 

नियम-कानून से चलती है हमारी पार्टी- सिद्धिकी 

पंद्रह दिनों की मोहलत दिये जाने पर राजद के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव अब्दुल बारी सिद्धीकी ने सफाई देते हुए कहा कि हमारी पार्टी नियम-कानून से चलती है. उन्हें पक्ष रखने का काफी मौका दिया गया है. शो-कॉज का जवाब देने के बाद अनुशासन समिति उसकी समीक्षा करेगी. इसके बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष आगे का निर्णय लेंगे. अब्दुल बारी सिद्दीकी ने शो-कॉज नोटिस में लिखा है कि राजद के राष्ट्रीय अधिवेश में सर्वसम्मति से यह प्रस्ताव पारित किया गया था कि गठबंधन के मसलों और शामिल दलों के शीर्ष नेतृत्व के संदर्भ में सिर्फ राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव या उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ही बात करने के लिए अधिकृत हैं। इसके बावजूद आपने इस प्रस्ताव का उल्लघंन किया है। आप कृपया 15 दिनों के अंदर यह स्पष्टीकरण दें कि क्यों नहीं आपके विरुद्ध कठोर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाए। पार्टी की तरफ से जारी नोटिस में आगे लिखा गया है कि आपके बयान लगातार उन ताकतों को बल देते हैं जो संविधान को रौंदकर न्याय, सौहार्द और समानता की पैरोकारी को समाप्त करना चाहते हैं। आपके आपत्तिजनक बयान देश-प्रदेश और राजद के एक बड़े वर्ग को आहत कर रहे हैं। 

सुधाकर सिंह की बयानबाजी को लेकर तेजस्वी यादव ने पहले भी चेतावनी देते हुए कहा था कि महागठबंधन के नेतृत्व को लेकर किसी तरह का सवाल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जो भी ऐसा कर रहा है वह सीधे तौर पर भाजपा का समर्थन कर रहा है और उसपर कार्रवाई की जाएगी। वहीं सुधाकर सिंह के खिलाफ शो-कॉज नोटिस जारी होने के बाद जेडीयू एमएलसी नीरज कुमार ने कहा कि राजद के इस कार्रवाई से भाजपा की सारी योजना नाकाम साबित हो गई है। नीरज कुमार ने कहा कि राजद के राष्ट्रीय नेतृत्व ने माना है कि सुधाकर सिंह ने अनुशासन तोड़ा है। राजद का नेतृत्व ऐसे लोगों पर कार्रवाई करने में सक्षम है। देश में गैर भाजपा दलों की एकजुटता नेतृत्व और नीतियों के कारण हुआ है। ऐसे में कोई एक व्यक्ति अपने स्वहित गठबंधन की नीतियों और नेतृत्व पर सवाल खड़ा करे। ऐसे में राजद की यह कार्रवाई स्वाभाविक परिणति है।

Find Us on Facebook

Trending News