बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आगे आए कला विशेषज्ञ आसिफ़ कमाल, मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष में दान किए 20 लाख रुपए

बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आगे आए कला विशेषज्ञ आसिफ़ कमाल, मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष में दान किए 20 लाख रुपए

DESK: जैसा कि हम इस COVID-19 महामारी से गुजर रहे हैं, पूरी दुनिया जीवित रहने के लिए संघर्ष कर रही है, बिहार राज्य इनमें से एक है जो न केवल जीवित रहने के लिए संघर्ष कर रहा है, बल्कि राज्य अपने विभिन्न क्षेत्रों में भीषण बाढ़ का सामना कर रहा है. जहाँ पूरी दुनिया सावधानी बरत रही है और सामाजिक दूरी बनाए रखने और एक-दूसरे से नहीं मिलने के संकल्प को निभाने की कोशिश कर रही है, उसी समय बिहार में बाढ़ प्रभावित जिलों के लोग अपना घर छोड़ने के लिए मजबूर हैं, सड़क पर रहने के लिए मजबूर हैं वे बेहद खराब स्थिति में हैं, उन्हें भोजन और आश्रय की आवश्यकता है. 

आसिफ़ कमाल फ़ाउंडेशन और अल्तुराश आर्ट ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लिए एक कला एग्ज़िबिशन का आयोजन किया है जो 15 अगस्त से लगातार 60 दिनों के लिए देश और विदेशों में कला प्रेमियों के लिए लगभग 2 करोड़ रुपए की कुल राशि के मूल्य की कला और कलाकृतियाँ बेचकर अल्तुराश आर्ट और आसिफ़ कमाल फ़ाउंडेशन के तरफ़ से बिक्री का 10% मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष में दान करने का संकल्प लिया है. यह राशि कला और कलाकृतियाँ बेचकर एकत्र की जाएगी, अल्तुराश और आसिफ़ कमाल फ़ाउंडेशन देश के विभिन्न छोटे संस्था और कला प्रमोटर्स की मदद से इन कार्यों को बेचेंगे, ये प्रदर्शन 60 दिनों के लिए ऑनलाइन अल्तुराश आर्ट गैलरी और आसिफ़ कमाल फ़ाउंडेशन के वेब्सायट पर तथा दिल्ली के साकेत के डी॰एल॰एफ़॰ माल में वास्तविक रूप से मौजूद होंगे.


इस चैरिटी एग्ज़िबिशन की शुरुआत 15th अगस्त के ख़ास मौक़े पे रखा गया है. आसिफ़ कमाल फ़ाउंडेशन का उद्धयेश्य ग्रामीण भारत को शिक्षा और स्वास्थ के क्षेत्र में सशक्त बनाना है. आसिफ़ का मानना है की ग्रामीण भारत को सशक्त बनाके ही आप सम्पूर्ण भारत को सशक्त बना सकते हैं. आसिफ़ एक युवा समाज सेवी हैं , आसिफ़ बिहार के सुपौल ज़िला के रहने वाले हैं, उनका जन्म सुपौल ज़िला में स्तिथ क़दमपुरा गाँव में 10 ऑक्टोबर 1989 को हुआ था, आसिफ़ दुबई स्तिथ अल्तुराश समूह के अध्यक्ष हैं और आसिफ़ कमाल फ़ाउंडेशन के संस्थापक भी हैं.

आसिफ़ कमाल पेशे से एक कला व्यापारी और कला पारखी हैं , देश के कला और संस्कृति को अंतर्रष्ट्रिया मंच  तक ले जाना और उनको प्रमोट करना इनका मुख्य काम है. आसिफ़ कमाल अपने संस्था के ज़रिए कोविड-19 और लाक्डाउन के समय लोगों की हर सम्भव मदद कर रहे है. प्रवासी मज़दूर को उनके घर भेजने के लिए बसों की व्यवस्था , उनके राशन की व्यवस्था और आर्थिक सहायता देश में लाक्डाउन के बाद निरंतर कर रहे हैं.


Find Us on Facebook

Trending News