पीएम मोदी ने कहा- भारत की भूमि पर आंख उठाने वालों को मिलेगा करारा जवाब

पीएम मोदी ने कहा- भारत की भूमि पर आंख उठाने वालों को मिलेगा करारा जवाब

Desk:- भारत  में कोरोना का कहर, गलवान घाटी में  हुई हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिकों की शहादत और देश में मॉनसून की तबाही.  इन सब के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मन की बात के जरिये देशवासियों को सम्बोधित करते हुई कहा कि देश में बड़े-बड़े संकटों के बीच अनेकों-अनेक सृजन हुए हैं. नए साहित्य रचे गए, नए अनुसंधान हुए, नए सिद्धांत गड़े गए. यानि संकट के दौरान भी हर क्षेत्र में सृजन की प्रक्रिया जारी रही और हमारी संस्कृति पुष्पित-पल्लवित होती रही.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी  ने कहा कि एक साल में एक चुनौती आए या पचास, नंबर कम-ज्यादा होने से, वो साल, ख़राब नहीं हो जाता. भारत का इतिहास ही आपदाओं और चुनौतियों पर जीत हासिल कर और ज़्यादा निखरकर निकलने का रहा है. सैकड़ों वर्षों तक अलग-अलग आक्रांताओं ने भारत पर हमला किया. लोगों को लगता था कि भारत की संरचना ही नष्ट हो जाएगी. लेकिन इन संकटों से भारत और भी भव्य होकर सामने आया.

उन्होंने ये भी कहा कि अभी कुछ दिन पहले देश के पूर्वी छोर पर तूफान अम्फान आया, तो पश्चिमी छोर पर साइक्लोन निसर्ग आया. कितने ही राज्यों में हमारे किसान भाई–बहन टिड्डी दल के हमले से परेशान हैं. मोदी ने ये भी कहा कि इन सबके बीच हमारे कुछ पड़ोसियों द्वारा जो हो रहा है, देश उन चुनौतियों से भी निपट रहा है .  वाकई एक-साथ इतनी आपदाएं, इस स्तर की आपदाएं, बहुत कम ही देखने-सुनने को मिलती हैं.

इसके साथ ही पडोसी देशों को सतर्क करते हुए ये भी कहा कि लद्दाख में भारत की भूमि पर आंख उठाकर देखने वालों को करारा जवाब मिला है. भारत मित्रता निभाना जानता है तो आंख-में-आंख डालकर देखना और उचित जवाब देना भी जानता है. लद्दाख में हमारे जो वीर जवान शहीद हुए हैं, उनके शौर्य को पूरा देश नमन कर रहा है, श्रद्धांजलि दे रहा है. पूरा देश उनका कृतज्ञ है, उनके सामने नतमस्तक है. इन साथियों के परिवारों की तरह ही हर भारतीय इन्हें खोने का दर्द भी अनुभव कर रहा है.

Find Us on Facebook

Trending News