बिहार में लहराया लाल झंडा, महागठबंधन के बैनर तले 20 सीटों पर बना चुका है बढ़त

बिहार में लहराया लाल झंडा, महागठबंधन के बैनर तले 20 सीटों पर बना चुका है बढ़त

पटना... कोरोनाकाल में हुए बिहार विधानसभा चुनावों के लिए तीन चरणों में मतदान कराए गए थे। 28 अक्टूबर और 3 व 7 नवंबर को 243 सीटों के लिए मतदान कराने के बाद आज मतों की गिनती हो रही है। अब तक आए रूझानों में अब तक एनडीए को बहुमत मिलता दिखाई दे रहा है। वहीं एक चैंकान वाला आंकड़ा भी चुनाव परिणाम के रूझानों में देखने को मिल रहा है। 29 सीटों पर चुनाव लड़ने वाली वामदल ने रूझान में 20 सीटों पर बढ़त बना रखा है। महागठबंधन में शामिल होकर चुनाव मैदान में उतरी वामपंथी धारा की तीन पार्टियां लगभग 20 सीटों पर रुझानों में आगे बनी हुई हैं। 

2015 के विधानसभा चुनाव में महज 3 सीटों पर सिमटी वाम पार्टियों के लिए ये रुझान उत्साहित करने वाले हैं। वामपंथी पार्टियों की सीटों पर गौर करें तो सीपीआई ने जिन तीन विधानसभा क्षेत्रों में 2015 में जीत हासिल की थी, उन सभी सीटों पर पार्टी रुझानों में आगे है।

निर्वाचन आयोग के रुझानों पर गौर करें तो वामदलों की बढ़त 19 सीटों पर है। इनमें सीपीआई 3 सीटों पर आगे चल रही है, वहीं माकपा 2 क्षेत्रों से बढ़त बनाए हुए है। सबसे ज्यादा चैंकाने वाले रुझान सीपीआई (एमएल) का है, जो 14 सीटों पर आगे चल रही है।

वहीं बेगूसराय जिले की बखरी सीट पर भाकपा के उम्मीदवार बढ़त बनाए हुए हैं। समस्तीपुर जिले की बिभूतिपुर विधानसभा सीट पर माकपा उम्मीदवार अपने प्रतिद्वंद्वी प्रत्याशी के मुकाबले आगे चल रहे हैं। सियासी जानकारों की मानें तो एनडीए के खिलाफ महागठबंधन में शामिल होकर इस चुनाव में वामदलों ने सभी को चैंका दिया है। 


Find Us on Facebook

Trending News