विधानसभा में उत्पात मचाने वाले विधायकों पर कार्रवाई ऐतिहासिक और यादगार होगी,कोई संदेह में न रहे

विधानसभा में उत्पात मचाने वाले विधायकों पर कार्रवाई ऐतिहासिक और यादगार होगी,कोई संदेह में न रहे

PATNA : 23 मार्च को बजट सत्र के दौरान बिहार विधानसभा में विधायकों के व्यवहार और पुलिस द्वारा उनकी पिटाई के मामले में आचरण समिति ने समीक्षा शुरू कर दी है। समिति ने साफ किया है कि बजट सत्र के दौरान विधानसभा में मारपीट के दोषी पुलिसकर्मियों के साथ-साथ मर्यादा भंग करने वाले विधायकों को भी बख्शा नहीं जाएगा। अगर दोषी पाए गए तो उनपर भी कार्रवाई होगी। 

इससे पहले विधानसभा की आचार समिति के सभापति रामनारायण मंडल की अध्यक्षता में गुरुवार को बैठक हुई, जिसमें भाजपा विधायक ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू, अरुण सिन्हा और राजद विधायक विष्णुदेव प्रसाद मौजूद थे। अगली सुनवाई 19 अप्रैल को होगी। इस दौरान सदन में 23 मार्च की घटना का वीडियो फुटेज देखा गया। कुछ और फुटेज की मांग की गई।बैठक के बाद रामनारायण मंडल ने कहा कि दूध का दूध और पानी का पानी होगा। समिति को निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए कुछ और साक्ष्यों की जरूरत है। 

बड़ी स्क्रीन पर देखा जाएगा फुटेज

मंडल ने कहा कि सदन की गरिमा का ख्याल रखना सभी सदस्यों का दायित्व है। अभी यह बताना जल्दबाजी होगी कि कार्रवाई कब होगी। जो घटना हुई है, उसे कई बार देखा जाएगा। बड़ी स्क्रीन पर भी देखा जाएगा, ताकि किसी निर्दोष के खिलाफ कार्रवाई न हो जाए। पूरी तरह संतुष्ट हो जाने के बाद ही आधिकारिक तौर पर कुछ कहा जा सकता है। मगर इतना तय है कि पड़ताल के बाद जो भी कार्रवाई होगी, वह संसदीय परंपरा के लिए यादगार बनेगी।

Find Us on Facebook

Trending News