बिहार के नए विधि मंत्री का अनंत सिंह से है खास रिश्ता, हाल में ही पटना से बने थे एमएलसी

बिहार के नए विधि मंत्री का अनंत सिंह से है खास रिश्ता, हाल में ही पटना से बने थे एमएलसी

PATNA : बिहार में नए कैबिनेट का गठन हो गया है। जिन लोगों ने मंत्री पद की शपथ ली, उन्हें विभागों की जिम्मेदारी भी सौंप दी गई। नए बने मंत्रियों में एक नाम की सबसे ज्यादा चर्चा हो रही है, वह नाम है कार्तिकेय कुमार उर्फ मास्टर साहब का। जिन्हें नए कैबिनेट में प्रदेश का विधि मंत्री बनाया गया है। कार्तिकेय कुमार कुछ माह पहले राजद की तरफ से पटना से एमएलसी बनाए गए थे।

लेकिन, कार्तिकेय कुमार की चर्चा का मुख्य कारण पिछले माह अपने विधायकी खोनेवाले अनंत सिंह हैं। कार्तिकेय कुमार अनंत सिंह के खासमखास माने जाते हैं। वे जाति से भूमिहार हैं। लालू प्रसाद और तेजस्वी यादव ने कार्तिकेय कुमार को मंत्री पद देने के लिए वीटो लगाया था। इससे पहले एमएलसी चुनाव के दौरान भी लालू प्रसाद ने बतौर एमएलसी उम्मीदवार कार्तिकेय के नाम की घोषणा खुद से की थी। जेल में रहकर भी अनंत ने कार्तिकेय को जितवा दिया।

अनंत सिंह के चुनावी रणनीतिकार रहे हैं कार्तिकेय

कार्तिकेय को अनंत सिंह के समर्थक 'कार्तिक मास्टर' के नाम से जानते हैं। वर्ष 2005 के बिहार विधानसभा चुनाव के बाद कार्तिक मास्टर और अनंत सिंह की दोस्ती परवान चढ़ी थी। आगे अनंत सिंह के चुनावी रणनीतिकार के रूप में कार्तिकेय ने खुद को साबित किया। जानकारी है कि अनंत सिंह के लिए सभी राजनीतिक दांव-पेंच पर्दे के पीछे से कार्तिकेय की मदद से ही अनंत सिंह संभालते हैं। इसलिए अनंत सिंह की पहली पसंद वे हैं।

ललन सिंह से है मतभेद

कार्तिकेय सिंह भले ही आज बिहार सरकार में मंत्री बन गए हैं। लेकिन, जदयू अध्यक्ष ललन सिंह से उनके रिश्ते बहुत अच्छे नहीं माने जाते हैं। कार्तिकेय कुमार ने जदयू के उम्मीदवार वाल्मीकि सिंह को पटना में एमएलसी सीट पर मात दी और विधान परिषद का चुनाव जीता। जिस समय जदयू में वाल्मीकि सिंह को विधान परिषद का टिकट देने की बात चल रही थी तभी अनंत सिंह ने तेजस्वी यादव से कहा था कि कार्तिकेय सिंह की जीत की गारंटी वे लेते हैं। अब एक ही सरकार में दोनों होंगे तो देखना दिलचस्प होगा कि वह एक दूसरे का सामना कैसे करते हैं। 

पत्नी दो बार मुखिया बनीं

अनंत सिंह कार्तिकेय कुमार को खुद 'मास्टर साहब' कहकर पुकारते हैं। राजनीति में सक्रिय होने से पहले कार्तिकेय स्कूल में शिक्षक थे। वे मोकामा के रहनेवाले हैं और उनके गांव का नाम शिवनार है। कार्तिक मास्टर की पत्नी रंजना कुमारी लगातार दो बार मुखिया बनीं।


Find Us on Facebook

Trending News