गाली-ताना सुनेंगे फिर भी साथ न छोड़ेंगे ! BJP के बड़े नेताओं की हो रही 'बेइज्जती' से आहत 'सांसद' ने भरी मीटिंग में 'नेतृत्व' को दिखाया आईना

गाली-ताना सुनेंगे फिर भी साथ न छोड़ेंगे ! BJP के बड़े नेताओं की हो रही 'बेइज्जती' से आहत 'सांसद' ने भरी मीटिंग में 'नेतृत्व' को दिखाया आईना

PATNA: अग्निपथ योजना को लेकर भड़की आग से JDU-BJP के रिश्तों में और तल्खी आ गई है। बड़े नेताओं व विधायकों पर हमले के बाद नीतीश सरकार में बड़े दल की भूमिका वाली बीजेपी ने आक्रामक तेवर अपना लिये हैं. बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष ने उपद्रव के लिए सीधे तौर पर नीतीश सरकार के प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया है। इसके बाद जेडीयू ने भी संजय जायसवाल को खूब खरी-खोटी सुनाई है। भाजपा ने साफ कहा है कि सुनियोजित साजिश के तहत उपद्रव कराया गया . पुलिस-प्रशासन ने ड्यूटी का निर्वहन नहीं किया। बिहार पुलिस से अपने आप को असुरक्षित भाजपा नेताओं ने केंद्र सरकार से मदद मांगी। इसके बाद गृह मंत्रालय ने बिहार बीजेपी के 10 नेताओं को सीआरपीएफ की वाई श्रेणी की सुरक्षा दी है। अपनी ही सरकार में हो रही बेइज्जती से भाजपा काफी गुस्से में है। आज बिहार बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं की बैठक हुई। बैठक में कुछ नेताओं ने साफ कहा कि हमलोग सरकार में हैं या विपक्ष में, यह पता ही नहीं चल रहा। मेरी बदौलत बिहार सरकार चल रही. उसी सरकार में हम और हमारे नेता सुरक्षित नहीं हैं।

अग्निपथ योजना के बारे में लोगों को बताएँ

अग्निपथ योजना को लेकर हुए उपद्रव और बिहार की मौजूदा राजनीतिक स्थिति पर चर्चा के लिए भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने प्रदेश पदाधिकारियों, मंत्रियों व सांसदों की बैठक बुलाई थी। वर्चुअल तरीके से आयोजित बैठक में वर्तमान राजनीतिक हालात पर चर्चा की गई। प्रदेश अध्यक्ष ने सभी नेताओं से कहा कि केंद्र सरकार अग्नि पथ योजना लाई है। यह योजना काफी अच्छी है। इसकी अच्छाईयों को जन-जन तक ले जायें। इस योजना की अच्छाईयों के बारे में लोगों को जानकारी दें और जागरूक करें। सोशल मीडिया के माध्यम से इस बारे में लोगों को बताएं। भाजपा नेतृत्व ने दल के नेताओं से कहा कि लोगों को इसके बारे में गुमराह किया गया है। ऐसे में हम सबों का दायित्व है कि इस बेहतरीन योजना के बारे में हकीकत बताएँ। 

भाजपा सांसद ने खड़े किये सवाल 

वहीं, आज की बैठक में दो सांसदों ने कई गंभीर सवाल खड़े किये। एक सांसद ने मीटिंग में कहा कि हमलोग सरकार में हैं या विपक्ष में यह समझ में नहीं आ रहा। हमारी बदौलत सरकार चल रही और इसी सरकार में हम लोग असुरक्षित हैं। भाजपा सांसद ने यहां तक कहा कि गाली भी सुनेंगे और ताना भी फिर भी पंच-सरपंच रहेंगे। हालांकि सांसदों की चिंता पर नेतृत्व ने कुछ जवाब नहीं दिया।नेतृत्व की तरफ से कहा गया कि बिहार एनडीए के भीतर ताजा राजनीतिक घटनाक्रम पर दल के अधिकृत व्यक्ति ही पक्ष रखेंगे। 

Find Us on Facebook

Trending News