अंधा प्यार ! पांच बेटियों के पिता ने दो बच्चों की मां से भागकर मंदिर में रचाई शादी, अब दोनों के परिवार ने अपनाने से किया इनकार

अंधा प्यार ! पांच बेटियों के पिता ने दो बच्चों की मां से भागकर मंदिर में रचाई शादी, अब दोनों के परिवार ने अपनाने से किया इनकार

ARARIA : प्यार अंधा होता है, यह बात एक बार फिर साबित हुई है। जिले में प्यार का एक ऐसा ही मामला सामने आया है। यहां पांच बच्चों के पिता को दो बच्चों की मां से प्यार हो गया। दोनों का परवान चढ़ा। फिर दोनों ने शादी करने का फैसला किया और घर से भागकर मंदिर में शादी रचा ली। इस घटना के बारे में युवक के पिता को जब जानकारी मिली तो उन्होनें पंचायत में जायदाद से बेदखल करने का फैसला सुना दिया। वहीं प्रेमिका के पति ने भी उसे अपनाने से मना कर दिया है।

मामला सिकटी प्रखंड के कौआकोह पंचायत के पडरिया गांव के वार्ड नंबर दो से जुड़ा है। यहां पांच बेटी के पिता व दो बेटी के मां ने घर से भाग कर नेपाल के किसी मंदिर में शादी रचा ली। इसकी मौखिक सूचना बरदाहा थाना को भी दी गयी। जब परिजनों ने दोनों प्रेमी युगल को नेपाल से खोज कर लाया तो आसपास के लोगों के साथ पंचायत बैठाई गई। इस मामले में ठेंगापुर पंचायत के मुखिया प्रदीप कुमार झा उर्फ बबन झा ने बताया कि दोनों प्रेमी युगल को अपने परिवार व बेटी का भी हवाला दिया गया, लेकिन दोनों एक साथ रहने की कसमें खा रखी है। वहीं कौआकोह पंचायत के सरपंच गगनदेव झा ने बताया कि दोनों प्रेमी युगल को बहुत समझाया गया। लेकिन दोनों एक साथ रहना चाहते हैं।

पूर्व उप प्रमुख अजदेव मंडल ने बताया कि दोनों को अपने-अपने बेटी के भविष्य के बारे में भी बताया गया, लेकिन दोनों नहीं माने। वहीं बरदाहा थानाध्यक्ष ने बताया कि इस संबंध में किसी भी प्रकार का कोई लिखित सूचना नहीं दी गयी थी। पंचायत में मामला का निपटारा कर लिया गया है।

यह है पूरी प्रेम कहानी

जानकारी के मुताबिक ठेंगापुर पंचायत के तीरा गांव निवासी सूर्यानंद चौधरी ने आज से लगभग 9 वर्ष पूर्व अपनी बेटी किरण की शादी कौआकोह पंचायत के पडरिया गांव के वार्ड नंबर दो निवासी सदानंद मंडल के पुत्र दीपक मंडल से हिन्दू रीति रिवाज के साथ करायी थी। जिससे दो बेटी भी पैदा हुयी। दीपक मंडल पंजाब में काम करता है। इसी क्रम में ठेंगापुर पंचायत के ठेंगापुर पीपरा वार्ड नंबर 13 निवासी रंजीत मंडल पिता विशेश्वर मंडल गांव गांव घुमकर साड़ी बेचने का काम करता था। रंजीत मंडल को पांच बेटी है। इसी क्रम में किरण व रंजीत में प्रेम प्रसंग परवान पर चढ़ गया। गत 30 जनवरी को दोनों प्रेमी युगल घर से फरार हो गया। नेपाल जाकर किसी मंदिर में दोनों प्रेमी युगल ने शादी रचा ली। 

पंचायत में प्रेमिका के पति ने भी उसे घर ले जाने से इंकार कर दिया। पंचायत में ही प्रेमी के पिता ने पंचायत में अपने बेटे को जमीन जायदाद से बे दखल कर करने की घोषणा करेगी जमीन जायदाद पंचनामा भी बनाया गया है। पंचायत में ठेंगापुर पंचायत के मुखिया प्रदीप कुमार झा उर्फ बबन, ठेंगापुर पंचायत के सरपंच प्रमोद मंडल, कौआकोह पंचायत के सरपंच गगनदेव झा, पूर्व उप प्रमुख अजदेव मंडल सहित अन्य गण्यमान्य लोग शामिल थे।

समझाने के बाद भी नहीं माने प्रेमी-प्रेमिका

इस मामले में ठेंगापुर पंचायत के मुखिया प्रदीप कुमार झा उर्फ बबन झा ने बताया कि दोनों प्रेमी युगल को अपने परिवार व बेटी का भी हवाला दिया गया, लेकिन दोनों एक साथ रहने की कसमें खा रखी है। वहीं कौआकोह पंचायत के सरपंच गगनदेव झा ने बताया कि दोनों प्रेमी युगल को बहुत समझाया गया। लेकिन दोनों एक साथ रहना चाहते हैं। वहीं ठेंगापुर पंचायत के सरपंच प्रमोद मंडल ने बताया कि जब दोनों एक साथ रहना चाहते हैं तो दोनों का पंचनामा बना दिया गया। वहीं पूर्व उप प्रमुख अजदेव मंडल ने बताया कि दोनों को अपने-अपने बेटी के भविष्य के बारे में भी बताया गया, लेकिन दोनों नहीं माने। 

युवक के पिता ने किया जायदाद से बेदखल

पंचायत सामाजिक मान्यताओं का हवाला देते हुए दोनों पर अलग होने का दबाव बनाते रहे। जब दोनों नहीं माने तो प्रेमी के पिता ने पंचनामा में रंजीत के सारे जमीन जायदाद उनके पांच पुत्री को देने का पंचनामा बनाया और प्रेमिका के ससुर ने भी कहा कि ऐसी बहु को अपने घर में नहीं रखुंगा। जिस पर पंचायत में हीं पंचनामा बनाकर दोनों प्रेमी युगल को छोड़ दिया गया।


Find Us on Facebook

Trending News