CM नीतीश ने परिवहन सचिव को खोजा, नजर पड़ते ही कहा- इधर आइए...इधर आइए, यह देख हमें आशचर्य हो रहा,डिस्कस करिए

CM नीतीश ने परिवहन सचिव को खोजा, नजर पड़ते ही कहा- इधर आइए...इधर आइए, यह देख हमें आशचर्य हो रहा,डिस्कस करिए

PATNA: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का जनता दरबार चल रहा है। सीएम नीतीश आज खाद्य आपूर्ति,समाज कल्याण,कृषि,नगर विकास,लघु सिचाई,पंचायती राज समेत अन्य विभागों की समस्या को सुन रहे हैं। सीएम नीतीश शिकायत सुन अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दे रहे। जहानाबाद से आये एक शख्स ने परिवहन विभाग में हो रही गड़बड़ी के बारे में शिकायत की।

उत्पाद नीलामी के तहत गाड़ी खरीदी और अब निबंधन ही नहीं हो रहा

 जहानाबाद के एक शख्स ने सीएम नीतीश से कहा था कि उत्पाद नीलामी में गाड़ी खरीदे लेकिन उसका निबंधन नहीं हो रहा। महीनों से गाड़ी के निबंधन को लेकर विभाग का चक्कर लगा रहे हैं। निबंधन का फीस भी जमा करा दिये हैं। फिर भी निबंधन नहीं किया जा रहा। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि जरा लगाओ परिवहन विभाग के सचिव को फोन.....। फिर परिवहन सचिव संजय अग्रवाल पर सीएम की नजर पड़ी। मुख्यमंत्री ने कहा कि ...ये इधर सुनिए। फिर मुख्यमंत्री ने कहा कि ये जहानाबाद ये आये हैं। इन्होंने उत्पाद नीलामी के तहत गाड़ी खरीदी है। लेकिन निबंधन नहीं हो रहा। इस पर सचिव संजय अग्रवाल ने कहा कि बिना नंबर की गाड़ी है इसलिए निबंधन नहीं हो रहा । कोर्ट से रोक है। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि जब नीलामी में गाड़ी खरीदी है तो फिर निबंधन क्यों नहीं हो रहा ? अगर निबंधन नहीं होगा तो फिर इनका पैसा लौटाइए। मुख्यमंत्री ने अपने प्रधान सचिव को कहा कि इस तरह के मामले को अलग से देखिए..आश्चर्य हो रहा है। 

 तुरंत एक्शन लीजिए-सीएम

मुजफ्फरपुर से आये एक फरियादी ने मुख्यमंत्री से कहा कि आवास योजना में भारी धांधली की जा रही है। जब हमने सीएम के जनता दरबार में आवेदन दिया तो जान से मारने की धमकी दी । यह शिकायत सुनने के बाद सीएम नीतीश गुस्से में आ गये।मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शिकायत सुनने के बाद तुरंत ग्रामीण विकास विभाग के प्रधान सचिव को फोन किया। फोन कर मुख्यमंत्री ने कहा कि आप इसे देखिए....पैसा-तैसा मांग रहा है। इस व्यक्ति ने मुख्यमंत्री के दरबार में शिकायत किया तो वो शख्स धमकी देने घर पहुंच गया। इस मामले को देखिए और तुंरत एक्शन लीजिए। 

सीएम नीतीश ने प्रधान सचिव को किया फोन

सुपौल से आये शख्स ने सीएम नीतीश से कहा कि 325 मीटर सड़क को छोड़ दिया गया। बाकी का 750मीटर सड़क बनाया गया। पूछने पर नगर विकास विभाग और पथ निर्माण विभाग एक-दूसरे पर थोप रहे हैं। इस पर मुख्यमंत्री ने नगर विकास विभाग के प्रधान सचिव को फोन कर इस मामले को तुरंत देखने को कहा। 

भभुआ नगर परिषद की खुली पोल

शिकायतकर्ता ने सीएम नीतीश से कहा कि भभुआ नगर परिषद में बड़ा घोटाला है। इस पर आप कार्रवाई कीजिए। नगर विकास विभाग इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं करेगा। आप निगरानी विभाग से जांच कराइए। इस मुख्यमंत्री ने कहा कि तुंरत कार्रवाई होगी। आप नगर विकास विकास के अधिकारियों को जाकर बताइए। जरूरत पड़ी तो निगरानी जांच भी होगी। 

महिला ने सीएम नीतीश से की फरियाद

 एक महिला ने पीडीएस डीलर लाईसेंस को लेकर सीएम नीतीश को आवेदन दिया। इसके बाद मुख्यमंत्री ने आवेदन को पढ़कर कहा-ये कहां गए....। इसके बाद तुरंत मुख्य मंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार पहुंचे। फिर उस महिला के आवेदन को खाद्य आपूर्ति विभाग के पास भेजा गया.

Find Us on Facebook

Trending News