DELHI-NCR NEWS: वैक्सीन की कमी के कारण दिल्ली में टीकाकरण बंद, केजरीवाल ने PM मोदी से लगाई ये गुहार

DELHI-NCR NEWS: वैक्सीन की कमी के कारण दिल्ली में टीकाकरण बंद, केजरीवाल ने PM मोदी से लगाई ये गुहार

DELHI: केंद्र सरकार से दिल्ली को वैक्सीन नहीं मिलने और मौजूदा वैक्सीन खत्म होने की वजह से दिल्ली सरकार को शनिवार से युवाओं का वैक्सीनेशन बंद करना पड़ रहा है। सीएम अरविंद केजरीवाल ने बताया कि वैक्सीन खत्म होने के कारण हमें वैक्सीनेशन सेंटर बन्द करने का बेहद दुख है। केंद्र से वैक्सीन जैसे ही मिलेगी, सेंटर चालू हो जाएंगे। सीएम ने देश में वैक्सीन की उपलब्धता तुरंत बढाने के लिए केंद्र सरकार को चार सुझाव भी दिए। 

तीसरी लहर से बचने के लिए अधिक से अधिक लोगों को वैक्सीन लगाई जाए

सीएम ने कहा कि अभी तक दिल्ली में कुल 50 लाख वैक्सीन की डोज लग चुकी है। दिल्ली के सभी व्यस्क को वैक्सीन लगाने के लिए हमें ढाई करोड़ और वैक्सीन की डोज चाहिए। अगर हम इसी रफ्तार से चले और दिल्ली को हर महीने 8 लाख वैक्सीन मिली तो, दिल्ली के वयस्क लोगों को वैक्सीन लगाने में 30 महीने लग जाएंगे। बल्कि इससे भी ज्यादा महीने लग जाएंगे। तब तक तो न जाने कितनी कोरोना की लहरें आएंगी और न जाने कितनी और लोगों की मौतें हो जाएगी। तीसरी लहर से दिल्ली और देश को बचाने का एक ही तरीका है कि कम से कम समय में अधिक से अधिक लोगों को वैक्सीन की सुरक्षा दी जाए। बेड, आईसीयू, ऑक्सीजन और दवाई आदि इन सब की तैयारी तो हम लोग कर रहे हैं, लेकिन कोरोना के घातक असर से बचाने में वैक्सीन ही सबसे ज्यादा असरदार हथियार है। 

अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार को पेश किए चार सुझाव 

पहला- सीएम ने कहा कि केंद्र सरकार भारत बायोटेक से फार्मूला लेकर वैक्सीन बनाने वाली दूसरी कंपनियों को दे और तत्काल उन्हें उत्पादन शुरू करने के लिए आदेश दे। सभी कंपनियां युद्ध स्तर पर समय बद्ध तरीके से वैक्सीन बनाना तुरंत चालू करें। दूसरा- जितनी भी विदेशी वैक्सीन है, उनको भारत में इस्तेमाल करने की तुरंत इजाजत दी जाए। यह 24 घंटे के अंदर किया जाना चाहिए। इसमें भी बिल्कुल देरी न की जाए। तीसरा- मीडिया में आ रहा है कि कुछ देश ऐसे हैं, जिन्होंने जरूरत से ज्यादा वैक्सीन जमा कर रखी है। उनकी जनसंख्या जितनी है, उससे कही ज्यादा वैक्सीन स्टोर कर के रखे हुए हैं। उन देशों से भारत सरकार को वैक्सीन लेने के लिए गुजारिश करनी चाहिए। चौथा- यह जितनी विदेशी कंपनियां वैक्सीन उत्पादक हैं, उन्हें भारत में भी वैक्सीन उत्पादन करने की तुरंत अनुमति दी जाए।

Find Us on Facebook

Trending News