नई नवेली दुल्हन को रिवॉल्वर रानी बनाना वार्ड पार्षद को पड़ा महंगा, पुलिस ने दर्ज किया मुकदमा

नई नवेली दुल्हन को रिवॉल्वर रानी बनाना वार्ड पार्षद को पड़ा महंगा, पुलिस ने दर्ज किया मुकदमा

JAMUI : कोरोना काल में नई नवेली दुल्हन को रिवॉल्वर रानी बनाना जमुई के एक वार्ड पार्षद को महंगा पड़ गया। कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को लेकर बिहार में लगे लॉकडाउन में सरकार के दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करने और लाइसेंसी हथियार के लाइसेंस के शर्तों का उल्लंघन करने के आरोप में ववार्ड पार्षद फिरोज आलम के खिलाफ जमुई के थानाध्यक्ष चंदन कुमार के बयान पर भादवि की धारा 188 और शस्त्र अधिनियम की धारा 27/30 के तहत मामला दर्ज किया गया है। जमुई के एसपी प्रमोद कुमार मंडल ने कहा कि सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो की जांच जमुई के थानाध्यक्ष चंदन कुमार द्वारा किए जाने पर यह सत्य पाया गया कि वार्ड पार्षद फिरोज आलम उर्फ डिशु मियां ने वार्ड नम्बर 25 के श्याम सुन्दर चौधरी के बेटे के रिशेप्शन में हर्ष फायरिंग की थी जो कि कानूनन गलत है। उन्होंने कहा कि उनके खिलाफ मामला दर्ज करा दिया गया है और जल्द ही कानूनी कार्रवाई की जाएगी। 

विदित हो कि कोरोना संक्रमण को लेकर जहां सपूर्ण बिहार में त्राहिमाम मचा है। सरकार कोरोना चेन को तोड़ने को लेकर लॉकडाउन लगा चुकी है। हालात को काबू करने को लेकर प्रशासन दिन-रात एक कर जद्दोजहद कर  रही है वहीं जमुई नगर परिषद के एक वार्ड पार्षद को बाहुबली बनने का धुन सवार हुआ और नई नवेली दुल्हन को बना दिया रिव़ॉल्वर रानी। 

बिहार में लॉकडाउन लागू है और शादी समारोह में सरकार द्वारा 20 से अधिक लोगों के शामिल होने पर पांबदी लगायी गई है इसके बाबजूद वार्ड पार्षद ने खुलकर सरकार के निर्देशों की धज्जियां उड़ायी। कोरोना काल में लॉकडाउन के निर्देशों का उल्लंघन करते हुए जमुई  नगर परिषद के वार्ड नंबर 18के वार्ड पार्षद मोहम्मद फिरोज आलम उर्फ डिशु न सिर्फ अपने लाइसेंसी रिवॉल्वर से गोलियां चलाते नजर आ रहा था बल्कि नई नवेली दुल्हन के हाथ में भी रिवॉल्वर थमा देता है और फायरिंग करवाता है। जानकारी के अनुसार बीते 26 अप्रैल को शहर के वार्ड संख्या 25 के पार्षद वीणा देवी के बेटे अभिनव कुमार के शादी का रिसेप्शन था। उसी रिसेप्शन पार्टी में वार्ड पार्षद फिरोज आलम ने नई नवेली बहू के हाथ में भी रिवॉल्वर देकर गोलियां चलवाया और  इसके बाद जहां लोग डांस कर रहे हैं वहां भी कई राउंड फायरिंग की। 

दरअसल हर्ष फायरिंग को रोकने के लिए कई नियम और कानून भी हैं, लेकिन उसकी धज्जियां जब कोई जनप्रतिनिधि ही उड़ाए तो अंदाजा लगाया जा सकता है कि लापरवाही का आलम क्या है और कानून की कितनी अनदेखी हो रही है।

जमुई से राकेश कुमार की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News