इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए बैटरी का निर्माण करेंगी मुकेश अंबानी की कंपनी, रिन्यूएबल एनर्जी को देगी बढ़ावा

इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए बैटरी का निर्माण करेंगी मुकेश अंबानी की कंपनी, रिन्यूएबल एनर्जी को देगी बढ़ावा

डेस्क... पूरा विश्व आज ग्लोबल वार्मिंग ,जलवायु परिवर्तन और वायु प्रदूषण की समस्या से जूझ रहा है.ऐसे में लोग पेट्रोल और डीजल जैसे प्रदूषण करने वाले इंधन को छोड़ कर इलेक्ट्रिक कारों की तरफ बढ़ रही है. भारत में इलेक्ट्रिक कारों की बढ़ती लोकप्रियता के चलते दुनिया भर के वाहन निर्माता खरीदारों को लुभाने के लिए अपने नए प्रोडक्ट को लॉन्च कर रही है चूंकि इलेक्ट्रिक वाहन सेगमेंट भारत के लिए बेहद नया है. 

इसलिए कई अनुभवी निर्माता और स्टार्ट-अप दोनों ही इस सेगमेंट को भुनाने की तैयारी में है. इसी क्रम में भारत के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी भी इलेक्ट्रॉनिक वाहनों की बैटरी और अन्य रिन्यूएबल एनर्जी  में भी प्रवेश करने की योजना बना रही है. रिलायंस इंडस्ट्रीज ने घोषणा की है कि "वह फॉसिल ईंधन के बजाय नई एनर्जी और नए मटेरियल को तैयार करेगी  जिससे की कंपनी वर्तमान समय में विश्वसनीय, स्वच्छ और सस्ती ऊर्जा का निर्माण कर सके  इस कदम का मुख्य उद्देश्य हाइड्रोजन बेस्ड इकोनॉमी को बढ़ावा देना है. 

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने इलेक्ट्रिक वाहन बाजार में प्रवेश करने की अपनी इन बैटरियों का उपयोग इलेक्ट्रिक वाहनों के साथ-साथ पवन, सौर और अन्य ऊर्जा स्रोतों से ऊर्जा को स्टोर करने के लिए किया जा सकता है. यहां ध्यान देने वाली बात यह है के यह नई घोषणा तब की गई जब भारत में ईंधन की कीमतें खतरनाक दर से बढ़ रही हैं. कुछ राज्यों में, पेट्रोल की कीमत लगभग 100 रुपये प्रति लीटर तक पहुंच गई है.

सरकार भी देश में इलेक्ट्रिक वाहनों के इस्तेमाल पर जोर दे रही है. नितिन गडकरी ने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक वाहन बहुत ही फायदेमंद हैं और अगर दिल्ली में 10,000 ईवी का उपयोग किया जाता है तो हर महीने ईंधन पर खर्च होने वाले लगभग 30 करोड़ रुपये बचेंगे.  रिलायंस इंडस्ट्रीज का यह भी दावा है कि उसने जामनगर, गुजरात में सबसे बड़ी   सिंगल-साइट रिफाइनरी का निर्माण किया है. ऐसे में हम आशा कर सकते है की जल्द ही हमें प्रदूषण से छुटकारा मिलेगा और वायु संबंधित बीमारियाँ कम होगी. 

Find Us on Facebook

Trending News