विदेशी मेहमान भी जुटे अटल जी के अंतिम संस्कार में

विदेशी मेहमान भी जुटे अटल जी के अंतिम संस्कार में

News4nation desk- भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी देश के पिता थे और आज उनकी निधन से पूरी दुनिया को बड़ा धक्का लगा है. दूरगामी सोच, कविताओं, पोखरण टेस्ट, कारगिल में भारत को मिली जीत और अंतर्राष्टीय स्तर पर भारत का कद बढाने के लिये उन्हें हमेशा याद किया जायेगा। वे ऐसे शख्स थे जिनमें न सिर्फ पार्टी को बल्कि बिपक्ष को साथ लेकर चलने की अद्भुत क्षमता थी। वह एकमात्र देश के ऐसे नेता थे जिन्हे बिपक्ष पार्टी भी सम्मान करती थी. आज दुनिया के हर कोने से लोग उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं. उनके अंतिम संस्कार में पाकिस्तान समेत पडोशी देशों के कई नेता शामिल होने आ रहे हैं. 

अटल जी के अंतिम संस्कार में कई देशों के नेता शामिल होंगे। पाकिस्तान के मंत्री जफर अली भी शामिल होने आएंगे। पाकिस्तान के विदेश कार्यालय के एक प्रवक्ता ने कहा, “हमें अटल बिहारी वाजपेयी के निधन का दुखद समाचार मिला” प्रवक्ता ने कहा, “वाजपेयी एक प्रख्यात राजनेता थे, जिन्होंने भारत-पाक संबंधों में परिवर्तन लाने की दिशा में काम किया. वह विकास के लिए दक्षेस और क्षेत्रीय सहयोग के प्रमुख समर्थक थे.”इमरान खान ने भी पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी के निधन पर शोक जाहिर करते हुए कहा कि भारत-पाकिस्तान शांति की दिशा में उनके प्रयासों को हमेशा याद किया जाएगा. खान ने आगे कहा कि वाजपेयी उप महाद्वीप के प्रमुख राजनीतिक शख्सियत थे और उनके निधन से एक बड़ा शून्य पैदा हो गया है.

उनके अंतिम संस्कार में भूटान नरेश जिग्मे वांगचुक भी शामिल होंगे. इसके अलावा बांग्लादेश के विदेश मंत्री अबुल हसन महमूद अली और श्रीलंका के कार्यवाह विदेश मंत्री लक्ष्मण किरिएला ने भी श्रद्धांजलि में शामिल होने की पुष्टि की है .नेपाल की तरफ से विदेश मंत्री प्रदीप ग्यावली अटल जी को श्रद्धांजलि देने के लिए भारत आए हैं. वह नेपाल की तरफ से वाजपेयी के अंतिम संस्‍कार में शामिल होंगे।  नेपाल के प्रधानमंत्री के.पी. शर्मा ओली ने अटल जी के बारे कहा, 'वह एक दूरदर्शी स्टेट्समैन थे जो भारत के लोगों के निस्वार्थ सेवा के लिए जाने जाते हैं. भारत और दुनिया ने एक शीर्ष राजनीतिक हस्ती को खो दिया है और नेपाल ने अपने सच्चे दोस्त और शुभेच्छु को.'  

Find Us on Facebook

Trending News