सुशासन की पुलिस भूल गई अपनी जिम्मेदारी : सड़क दुर्घटना में मौत के बाद बिना पोस्टमार्टम कराए पंचायती कर शव को दाह संस्कार कराया

सुशासन की पुलिस भूल गई अपनी जिम्मेदारी : सड़क दुर्घटना में मौत के बाद बिना पोस्टमार्टम कराए पंचायती कर शव को दाह संस्कार कराया

MOTIHARI : आम तौर पर किसी सड़क दुर्घटना में मौत की घटना के बाद पुलिस सबसे पहले शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजती है, ताकि मौत की असली वजह सामने आ सके। लेकिन जिले में सुशासन की पुलिस पोस्टमार्टम कराने की जगह पंचायती कर मामले का निपटारा कर बिना पीएम शव का अंतिम संस्कार करवा दिया। अब पुलिस की यह कार्यशैली इलाके में चर्चा का विषय बन गया है। मृतक के परिजन पुलिस पर आरोपी को बचाने का आरोप लगा रहे हैं। 

मामला मलाही थाना का बताया जा रहा है। जानकारी के अनुसार गोविंदगंज थाना क्षेत्र के बभनौली पंचायत की दो महिला मंगलवार को मलाही थाना के सिरनी बाजार सामान खरीदने गयी थी। बाजार से समान लेकर लौटने के दौरान सिरनी ब्रह्मस्थान के पास बाइक सवार ने महिला को ठोकर मार दिया। जिससे महिला गंभीर रूप से जख्मी हो गई। घटना स्थल पर पहुंची भीड़ ने दो बाइक को पकड़ लिया ।वही महिला के इलाज के लिए पहाडपुर अस्पताल ले गया। जहाँ इलाज के दौरान महिला की मौत हो गई। जिसके बाद परिजन व ग्रामीणों ने करवाई के लिए शव को टेम्पू पर रखकर मलाही थाना पहुंच गए। जहां मृतका के परिजनों ने बाइक सवार युवक के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए आवेदन दिया। मृतक महिला की पहचान गोबिंदगंज थाना के बभनौली गांव के शिव महतो की पत्नी धनिया देवी के रूप में की गई।

परिजनों पर ही दबाव बनाने लगे थानाध्यक्ष महोदय

मामले में दोषी बाइक चालक पर कार्रवाई करने की जगह थानाध्यक्ष अज्ञात पर प्राथमिकी दर्ज करने का आवेदन देने के लिए पीड़ित पर दबाव बनाने लगे। परिजनों ने आरोप लगाया कि थाना अध्यक्ष द्वारा कार्रवाई नही कर पंचायती कर कुछ राशि देकर मामला को रफा दफा कर दिया गया। वहीं शव को बिना पोस्टमार्टम कराए ही परिजनों से दाह संस्कार करवा दिया गया। जिससे मामले में दोषी बाइक चालक को पूरी तरह बचाया जा सके।

पुलिस के काम पर सवाल

समाजसेवी अमित उपाध्याय ,पूर्व सरपंच पप्पू ठाकुर ने सहित ग्रामीणों ने बताया कि पीड़ित परिवार बहुत ही गरीब है। वरीय पदाधिकारी मामले की जांच कर दोषी थाना अध्यक्ष पर करवाई करते हुए पीड़ित परिवार को उचित मुआवजा दिलाये। इधर मलाही थाना अध्यक्ष राजेश कुमार ने बताया कि पीड़ित शव लेकर थाने पर आए थे। लेकिन लिखित आवेदन नही दिए जिसके कारण पोस्टमार्टम नही कराया गया ।वही बाइक चालक व पीड़ित अपने में सुलह कर लिए। थाने पर पंचायती से थानेदार द्वारा इंकार किया गया।

Find Us on Facebook

Trending News