धरने पर बैठे कार्यपालक सहायक अभ्यर्थियों से डरे सरकार के मंत्री, पीछे के दरवाजे से निकलकर भागने को होना पड़ा मजबूर

 धरने पर बैठे कार्यपालक सहायक अभ्यर्थियों से डरे सरकार के मंत्री, पीछे के दरवाजे से निकलकर भागने को होना पड़ा मजबूर

PATNA : लंबे समय से नियुक्ति के इंतजार में बैठे कार्यपालक सहायक अभ्यर्थियों ने आज बीजेपी कार्यालय का घेराव कर दिया। इन अभ्यर्थियों का सामना न करना पड़े, इसके कारण बिहार सरकार के पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी और पर्यटन मंत्री नीरज बबलू  को कार्यालय के पीछे के दरवाजे से बाहर निकलना पड़ गया। 

बीजेपी दफ्तर में पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी को घेर लिया। सम्राट चौधरी पर्यटन मंत्री नीरज बबलू संग सहयोग कार्यक्रम के तहत कार्यालय पहुंचे थे। इसी दौरान बड़ी संख्या में पंचायती राज विभाग में नियुक्ति का इंतजार कर रहे  कार्यपालक सहायक अभ्यर्थियों ने बीजेपी कार्यालय का घेराव कर दिया और मुख्य गेट के सामने ही धरने पर बैठ गए। नतीजा यह हुआ कि कार्यालय में ही पंचायती राज मंत्री और पर्यटन मंत्री बुरी तरह से घिर गए। ऐसे में उनकी सुरक्षा में लगे कर्मियों ने कार्यालय के पिछले गेट से उनके निकलने की व्यवस्था की। जहां से वह अभ्यर्थियों को देकर निकलने में कामयाब हो गए।

धरने पर बैठे हुए अनियोजित कार्यपालक  सहायक का कहना है की पंचायती राज विभाग की ओर से सहायक कार्यपालक के लिए 4113 लेटर निकाला गया था लेकिन Bpsm  के द्वारा मनमानी करते हुए बहाली नहीं की जा रही है। कार्यपालक सहायकों का कहना है कि रक्त पद है लेकिन उसके बावजूद भी बहाली नहीं हो रही है। साथी कहना है कि जब भी किसी अधिकारी से मिलने जाते हैं तो वहां से गाली-गलौज कर के भगा दिया जाता है। उनका साफ तौर पर कहना था 70 परसेंट कार्यपालक सहायक में भर्ती हो चुकी है 30 परसेंट की भी भर्ती होनी चाहिए। वहीं पंचायती राज मंत्री ने भी इस बात को माना कि पंचायतों में कार्यपालक सहायक की नियुक्ति की जानी है, जिसकी जिम्मेदारी बेलट्रॉन को सौंपी गई है।


Find Us on Facebook

Trending News