दिल्ली में फिर से केजरीवाल और भाजपा में मचा घमासान, आबकारी नीति पर केंद्र से शुरू हुआ टकराव

दिल्ली में फिर से केजरीवाल और भाजपा में मचा घमासान,  आबकारी नीति पर केंद्र से शुरू हुआ टकराव

DESK. दिल्ली के उपराज्यपाल वी.के. सक्सेना ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली सरकार की आबकारी नीति 2021-22 में नियमों के उल्लंघन तथा प्रक्रियागत खामियों को लेकर इसकी केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराए जाने की सिफारिश की है।

अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि दिल्ली के मुख्य सचिव की इस महीने की शुरुआत में सौंपी गयी रिपोर्ट के आधार पर सीबीआई जांच की सिफारिश की गयी है। इस रिपोर्ट से प्रथम दृष्टया राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली सरकार (जीएनसीटीडी) अधिनियम, 1991, व्यापारिक लेनदेन की नियमावली-1993, दिल्ली आबकारी अधिनियम, 2009 और दिल्ली आबकारी नियम, 2010 के उल्लंघनों का पता चलता है। 

उन्होंने बताया कि इसके अलावा रिपोर्ट में ‘‘शराब के ठेकों के लाइसेंसधारियों को अनुचित लाभ’’ देने के लिए ‘‘जानबूझकर और घोर प्रक्रियागत खामियां करने’’ का भी जिक्र है। नयी आबकारी नीति 2021-22 पिछले साल 17 नवंबर से लागू की गयी थी, जिसके तहत 32 मंडलों में विभाजित शहर में 849 ठेकों के लिए बोली लगाने वाली निजी संस्थाओं को रिटेल लाइसेंस दिए गए। कई शराब की दुकानें खुल नहीं पायी। ऐसे कई ठेके नगर निगम ने सील कर दिए। भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस ने इस नीति का पुरजोर विरोध किया था और इसकी जांच के लिए उपराज्यपाल के साथ केंद्रीय एजेंसियों में शिकायत दर्ज करायी थी।


इस बीच केजरीवाल ने कहा कि भाजपा के लोग दिल्ली में हो रहे जनहितकारी कामों को रोकना चाहते हैं. मनीष सिसोदिया को फंसाने की साजिश के तहत अब इस प्रकार की जांच की बात कही जा रही है ताकि हमें काम करने में बाधा हो. उन्होंने कहा कि पंजाब में आप को मिली जीत से भाजपा बौखला गई है. भाजपा वाले सावरकर भक्त हैं जबकि हम भगत सिंह के भक्त हैं. सिसोदिया पर लगे आरोप बेबुनियाद हैं. 


Find Us on Facebook

Trending News