पिछड़ों के आरक्षण पर भाजपा की पोल खोलने के लिए प्रदेशस्तर पर धरने पर बैठी जदयू, लगाया बड़ा आरोप

पिछड़ों के आरक्षण पर भाजपा की पोल खोलने के लिए प्रदेशस्तर पर धरने पर बैठी जदयू, लगाया बड़ा आरोप

PATNA : बिहार में नगर निकाय चुनाव स्थगित हो चुके हैं। जिसके बाद इस मुद्दे पर भाजपा और महागठबंधन की पार्टियों के बीच लगातार एक दूसरे पर पिछड़ों को लेकर आरोप लगाए जा रहें हैं। भाजपा चुनाव स्थगित होने के लिए नीतीश कुमार की नीतियों को जिम्मेदार मानती है, वहीं जदयू का कहना है कि भाजपा के लोग नहीं चाहते थे कि निकाय चुनाव हो।

आज जदयू ने भाजपा के इसी आरक्षण विरोधी नीतियों के खिलाफ प्रदेश स्तर पर धरना प्रदर्शन का आह्वाण किया है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा ने बताया कि चुनाव रूकने के कारण भाजपा की आरक्षण विरोधी सोच है। वह नहीं चाहती थी कि चुनाव में पिछड़ों को आरक्षण दिया, इसलिए उनके लोगों ने कोर्ट में याचिका दायर कर चुनाव रोकने की साजिश रची।

गांधी मैदान में भाजपा की साजिश की पोल-खोल के लिए बैठे जदयू के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा 2006 में ही पंचायत और 2007 में नगर निकायों में पिछड़े और अति पिछड़ा के लिए चुनाव में आरक्षण के लिए नीतीश कुमार ने व्यवस्था कर दी थी। जिस पर तीन-तीन चुनाव हो गए। अब कहा जा रहा है कि यह पूरी व्यवस्था गलत थी। सच्चाई यह है कि भाजपा नहीं चाहती थी कि आरक्षण के आधार पर चुनाव कराया जाए

उमेश कुशवाहा ने कहा कि आज प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों में जदयू के कार्यकर्ता धरने पर बैठे हैं और लोगों को BJP के आरक्षण विरोधी चेहरे से रूबरू कराने का काम कर रहे हैं।



Find Us on Facebook

Trending News