पटना की तरह बिहार के इस जिले में भी धड़ल्ले से हो रहे हैं अवैध मकानों के निर्माण, सिर्फ नोटिस भेजकर अपनी जिम्मेदारी पूरी कर रहे हैं अधिकारी

पटना की तरह बिहार के इस जिले में भी धड़ल्ले से हो रहे हैं अवैध मकानों के निर्माण, सिर्फ नोटिस भेजकर अपनी जिम्मेदारी पूरी कर रहे हैं अधिकारी

MOTIHARI : बिहार की राजधानी पटना के नेपाली नगर में भू-माफिया के कारनामों ने जिस तरह सैकड़ों लोगों के आशियाने छिनने की स्थिति में ला दिया है। अब बिहार के दूसरे जिलों में भी ऐसी ही स्थिति बनती जा रही है। मोतिहारी जिला भी इनमें से एक है। यहां भू-माफियाओं की सांठगांठ से धड़ल्ले से बिना नक्शा पास कराए और बिना पंजीयन के धड़ल्ले से मकानों का निर्माण किया जा रहा है। वहीं विभाग के अधिकारी सिर्फ नोटिस भेजकर अपनी जिम्मेदारी पूरी कर रहे हैं।

पूर्वी चंपारण में जिला मुख्यालय और रक्सौल के बाद अरेराज नगर पंचायत को प्रमुख जगहों में से एक माना जाता है। यहां प्रसिद्ध सोमेश्वरनाथ मंदिर होने के कारण आसपास की जमीन पर भूमाफियाओं की नजर गड़ गई है। प्रशासन के मौन होने के कारण धीरे धीरे रोक पंजी की जमीन पर भूमाफिया अपना सिक्का जमाने मे कामयाब होते दिख रहे है । इसी कड़ी में अरेराज नगर पंचायत के उदासीनता से रोक पंजी के जमीन पर बिना नक्शा पास कराए धड़ल्ले से हो रहा मकान निर्माण .नप क्षेत्र में बिना नक्शा पास कराए दर्जनों मकान का निर्माण कर सरकारी राजस्व का क्षति पहुच रहा है। वहीं भूमाफियाओं के मिलीभगत से सरकारी जमीन पर अबैध कब्जा धड़ल्ले से हो रहा है .नप प्रशासन सिर्फ कागजी खाना पूर्ति के लिए नोटिस नोटिस का खेल खेल रही  है।


रोक पंजी के बाद नहीं  रूक रहा काम

सरकारी आंकड़ों के अनुसार नगर पंचायत क्षेत्र में अधिकांश जमीन मठ मंदिर,सैरात ,स्कूल ,कालेज,अस्पताल,बेतिया राज व सेलिंग की जमीन है। तत्कालीन एसडीओ के नेतृत्व में मठ मंदिर,सैरात ,बेतिया राज,स्कूल कालेज सहित जमीन को भूमाफियाओं की नजर से बचाने के लिए रोक पंजी में दर्ज कर दिया गया। रोक पंजी में दर्ज होने के बाद भूमाफिया नया तरीका अपनाकर   स्टाम्प पर जमीन का खरीद बिक्री कर  बिना नक्शा पास कराए दर्जनों मकान का निर्माण कराया जा रहा है .मकान निर्माण नहीं रोकने के नाम पर प्रशासन के नाम पर लाखों का खेल हो रहा है।

सिर्फ नोटिस भेज रहे 

नप टैक्स दरोगा अमित कुमार ने बताया कि मार्च से अबतक बिना नक्शा पास कराए निर्माण कर रहे 30 लोगो को दुबारा नोटिस दिया गया है .वही मार्च से अबतक 17 नक्शा पास कराया गया है .दूसरे नोटिस के बाद भी निर्माण कार्य करा रहे लोगो पर तीसरे नोटिस के बाद कार्रवाई की जाएगी। वहीं अरेराज सीओ द्वारा  एक सौ से अधिक रोक पंजी के जमीन का अबतक दाखिल खारिज रद्द किया जा चुका है ।सूत्रों की माने तो दाखिल खारिज रद्द भूमि पर भी धड़ल्ले से निर्माण हो रहा है ।

कहीं नेपाली नगर जैसे न हो जाएं हालात

जिस तरह से अरेराज में सरकारी जमीन पर फर्जी दस्तावेज बनाकर भू-माफिया जमीन बेचने का धंधा कर रहे हैं. यहां के लोगों को डर है कि जिस तरह से पटना के राजीव नगर में प्रशासन सैकड़ों घरों में तोड़फोड़ की, कहीं वैसी ही स्थिति यहां भी आनेवाले सालों में देखने को न मिल जाए।

कार्रवाई की तैयारी

मामले में अरेराज नप ईओ कृष्णभूषन कुमार ने बताया कि बिना नक्शा पास कराए अवैध निर्माण के विरुद्ध कार्रवाई की तैयारी की जा रही है। तीसरे नोटिस के बाद विजिलेंस केस किया जाएगा .एक व्यक्ति पर विजिलेंस केस किया गया है .बाकी को चिन्हित कर विधि सम्मत कड़ी करवाई की जाएगी .थाना को भी करवाई के लिए सूचित किया गया है .


Find Us on Facebook

Trending News