निकाय चुनाव के स्थगित होने के लिए पूरी तरह से नीतीश कुमार, उनकी जल्दबाजी के कारण कई प्रत्याशी हो गए कंगाल, खूब गरजीं बिहार की पूर्व डिप्टी सीएम

निकाय चुनाव के स्थगित होने के लिए पूरी तरह से नीतीश कुमार, उनकी जल्दबाजी के कारण कई प्रत्याशी हो गए कंगाल, खूब गरजीं बिहार की पूर्व डिप्टी सीएम

PATNA : बिहार में निकाय चुनाव स्थगित होने को लेकर जदयू और भाजपा आमने सामने है। जहां जदयू का कहना है कि भाजपा चुनाव नहीं चाहती थी, इसलिए कोर्ट के जरिए इसे स्थगित कराया गया। वहीं दूसरी तरफ भाजपा के तमाम नेता अब इस मुद्दे पर नीतीश सरकार पर लगातार हमला कर रहे हैं। जहां भाजपा की तरफ से अब तक सुशील मोदी और संजय जायसवाल हमलावर थे, वहीं दूसरी तरफ अब पूर्व डिप्टी सीएम रेणु देवी ने भी निकाय चुनाव के टलने के लिए नीतीश कुमार को जिम्मेदार बता दिया है। 

आज बीजेपी कार्यालय पहुंची रेणु देवी ने कहा कि नीतीश कुमार की जल्दबाजी के कारण ही चुनाव स्थगित हो गए। वह जानते थे कि आरक्षण नियमों का पालन नहीं किया जा रहा है, फिर भी महागठबंधन की सरकार बनाने के साथ आनन फानन में तारीखों की घोषणा करवा दी गई। नतीजा यह हुआ कि चुनाव में खड़े कई प्रत्याशी अब खुद को ठगा हुअ महसूस कर रहे हैं। कई प्रत्याशियों ने चुनाव में अपनी पूरी पूंजी लगा दी है।

पिछड़े लोगों का भला नहीं चाहते मुख्यमंत्री

रेणु देवी ने कहा निकाय चुनाव में जिस तरह से पिछड़ों के हक को अनदेखा किया गया, वह बताता है कि नीतीश कुमार पिछड़ों को कभी आगे बढ़ते हुए नहीं देखना चाहते हैं। वह अपने लिए सदन का एक दिन बुला सकते हैं, लेकिन इस बेहद गंभीर मुद्दे पर उन्होंने चर्चा के लिए सदन की बैठक बुलाना जरुरी नहीं समझा।

एजी की रिपोर्ट सार्वजनिक करे सरकार

रेणू देवी ने कहा कि जदयू अगर यह समझती है कि भाजपा ने चुनाव रोकने के लिए साजिश रची है, उन्हें इस बात का सबूत दिखाना चाहिए। अगर वह सही हैं तो एजी और निर्वाचन आयोग की तरफ से जारी लेटर को सार्वजनिक करना चाहिए। पता चल जाएगा कि कौन सच बोल रहा है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार चुनाव में आरक्षण को लेकर आयोग का गठन करना होगा।

सडक पर उतर कर करेंगे आंदोलन

रेणू देवी ने कहा कि जो हुआ, उसके विरोध में पूरे प्रदेश में भाजपा के लोग सड़क पर उतर कर प्रदर्शन करेंगे। उन्होंने कहा कि राज्य का अति पिछड़ा अपने हक के लिए सड़क पर उतरेगा।

Find Us on Facebook

Trending News