30 सितंबर को पटना में 55,837 परीक्षार्थी देंगे BPSC 67th की पीटी परीक्षा, कदाचार मुक्त एग्जाम के लिए पटना DM-SSP ने की अधिकारियों की ब्रीफिंग

30 सितंबर को पटना में 55,837 परीक्षार्थी देंगे BPSC 67th की पीटी परीक्षा, कदाचार मुक्त एग्जाम के लिए पटना DM-SSP ने की अधिकारियों की ब्रीफिंग

पटना. 30 सितंबर को बीपीएससी 67वीं की पीटी परीक्षा होगी। इसको लेकर पटना डीएम चंद्रशेखर सिंह और एसएसपी मानवजीत सिंह ढिल्लो ने ब्रीफिंग की। इस दौरान पटना डीएम और एसएसपी ने कहा है कि बिहार लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित 67वीं संयुक्त (प्रारंभिक) प्रतियोगिता परीक्षा स्वच्छ, कदाचारमुक्त एवं शांतिपूर्ण माहौल में सम्पन्न करायी जाएगी। इसके लिए पर्याप्त संख्या में दंडाधिकारियों एवं पुलिस अधिकारियों की प्रतिनियुक्ति की गई है।

श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल (पटना) में आयोजित ब्रीफिंग में केन्द्राधीक्षकों, दण्डाधिकारियों, पुलिस पदाधिकारियों एवं अन्य पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए पटना डीएम ने कहा कि बिहार लोक सेवा आयोग की परीक्षाओं पर बिहार परीक्षा संचालन अधिनियम, 1981 लागू है। यदि कोई उम्मीदवार इस उपबंध का उल्लंघन करते हुए पाया जाता है तो उक्त अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार उसके विरूद्ध आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। डीएम डॉ. सिंह ने कहा कि परीक्षार्थियों के हित में यह आवश्यक है कि परीक्षा स्वच्छ वातावरण में एवं कदाचारमुक्त सम्पन्न हो। प्रतिनियुक्त दण्डाधिकारियों तथा पुलिस पदाधिकारियों द्वारा यह सुनिश्चित की जाएगी कि परीक्षा केन्द्र के परिसर में किसी भी हालत में भीड़ या असामाजिक तत्व न जुटे। कदाचार की कोशिश करने या प्रश्रय देने वाले व्यक्तियों पर कठोरतम कार्रवाई की जाएगी।

बिहार लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित होने वाली 67वीं संयुक्त (प्रारंभिक) प्रतियोगिता परीक्षा दिनांक 30 सितम्बर, 2022 (शुक्रवार) को एकल पाली में (12ः00 बजे मध्याह्न से 02ः00 बजे अपराह्न तक) होगी। पटना जिले में परीक्षार्थियों की कुल संख्या 55,837 (पचपन हजार आठ सौ सैतीस) है। जिले में यह परीक्षा 85 (पचासी) विभिन्न परीक्षा केन्द्रों पर हो रही है। इस परीक्षा से संबद्ध सभी उम्मीदवारों का प्रवेश-पत्र आयोग के वेबसाइट से डाउनलोड करना होगा और वैसे प्रवेश-पत्र ही परीक्षा में बैठने के लिए मान्य है। डीएम डॉ. सिंह व एसएसपी ढिल्लो ने सभी केन्द्राधीक्षकों, दंडाधिकारियों एवं पुलिस पदाधिकारियों को बिहार लोक सेवा आयोग से प्राप्त निर्देशों का अक्षरशः अनुपालन करने को कहा है। उनकी यह जिम्मेदारी होगी कि परीक्षा स्वच्छ, कदाचाररहित एवं शांतिपूर्ण संचालित हो।

परीक्षार्थियों के लिए ध्यान देने योग्य महत्वपूर्ण बिंदु

डीएम डॉ. सिंह ने कहा कि परीक्षा केन्द्र पर परीक्षार्थियों का प्रवेश 10.30 बजे पूर्वा0 से प्रारंभ होगी तथा अंतिम प्रवेश 11.00 बजे पूर्वा0 तक होगा। 11.00 बजे पूर्वा0 के पश्चात किसी भी परिस्थिति में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जायेगी। परीक्षा कक्ष में 11.00 बजे से 11.30 बजे के बीच वीक्षक पुनः परीक्षार्थियों की फ्रिस्किंग कर आश्वस्त हो लेंगे कि उनके पास कोई भी वर्जित सामग्री नहीं है। परीक्षा अवधि 12.00 बजे मध्या0 से 02.00 बजे अप0 के बीच कोई भी परीक्षार्थी एवं वीक्षक कमरे से बाहर नहीं निकलेंगे। परीक्षार्थी को परीक्षा कक्ष में मोबाईल, ब्लूटूथ, वाई-फाई गैजेट, इलेक्ट्रानिक पेन, पेजर, कलाई घड़ी (सामान्य/स्मार्ट), इत्यादि जैसी  इलेक्ट्रोनिक सामग्री ले जाना वर्जित है। उक्त सामग्रियों के उम्मीदवार के पास पाये जाने पर परीक्षार्थी दण्ड/अनुशासनिक कार्रवाई के भागी होंगे, जिसके तहत उनकी उम्मीदवारी रद्द कर दी जाएगी एवं आयोग की इस परीक्षा एवं आगामी परीक्षाओं में भाग लेने से वंचित किया जा सकता है। 

डीएम डॉ. सिंह व एसएसपी ढिल्लो ने कहा कि वीक्षकों का मुख्य दायित्व होगा कि उनके परीक्षा कक्ष में परीक्षा का संचालन स्वच्छ, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण ढंग से कदाचाररहित हो। परीक्षा कार्य में संलग्न प्रतिनियुक्त दण्डाधिकारी एवं प्रतिनियुक्त वरीय पदाधिकारी यह सुनिश्चित करेंगे कि परीक्षा केन्द्रों के केन्द्राधीक्षक या सहायक केन्द्राधीक्षक को छोड़कर किसी भी वीक्षक/कर्मी के पास परीक्षा अवधि में मोबाईल न हो। केन्द्राधीक्षक को सिर्फ कीपैड वाला एक मोबाइल (स्मार्ट फोन रहित) लाने की अनुमति होगी।


डीएम डॉ. सिंह व एसएसपी ढिल्लो द्वारा परीक्षा को कदाचारमुक्त सुनिश्चित कराने एवं विधि-व्यवस्था संधारण हेतु 114 स्टैटिक दण्डाधिकारियों-सह-प्रेक्षकों एवं 32 जोनल दण्डाधिकारिेयों की प्रतिनियुक्ति की गई है। इनके साथ पुलिस पदाधिकारियों एवं सशस्त्र बलों को भी लगाया गया है। साथ ही जिला नियंत्रण कक्ष में 16 सुरक्षित दण्डाधिकारियों को मुस्तैद रखा गया है। सभी प्रतिनियुक्त दण्डाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी एवं पुलिस बल संबंधित परीक्षा केन्द्र पर 10 बजे पूर्वाह्न तक पहुंच जाएंगे एवं कार्य-समाप्ति तक अपने-अपने कर्त्तव्य पर बने रहेंगे। परीक्षा के सफल संचालन हेतु अपर जिला दण्डाधिकारी, विधि-व्यवस्था, पटना को सहायक संयोजक के रूप में नियुक्त किया गया है। कदाचाररहित परीक्षा के सफल संचालन हेतु मनीष कुमार, श्रम अधीक्षक-सह-अपर प्रभारी, जिला नियंत्रण कक्ष, पटना को नोडल पदाधिकारी नामित किया गया है।

परीक्षा के सुचारू रूप से संचालन हेतु आज श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल, पटना में प्रतिनियुक्त दंडाधिकारियों, पुलिस अधिकारियों एवं केंद्राधीक्षकों की ब्रीफिंग की गई। बिहार लोक सेवा आयोग, पटना के प्रतिनिधि की उपस्थिति में अपर जिला दण्डाधिकारी, विधि-व्यवस्था ने परीक्षा में संलग्न पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया। परीक्षा के अवसर पर आयोग कार्यालय, पटना अवस्थित नियंत्रण कक्ष (0612-2215354) कार्यरत रहेगा। यह नियंत्रण कक्ष दिनांक 29 सितम्बर, 2022 से (10ः00 बजे पूर्वाह्न से 06ः00 बजे अपराह्न तक) सक्रिय रहेगा।

संबंधित अनुमंडल दण्डाधिकारी परीक्षा के दिन परीक्षा की पूरी अवधि के लिए परीक्षा केन्द्रों के परिसर एवं बाहर दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा-144 के अन्तर्गत निषेधाज्ञा आदेश लागू करेंगे। संबंधित अनुमंडल पदाधिकारी एवं संबंधित अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी, पटना जिला अपने-अपने क्षेत्रान्तर्गत परीक्षा केन्द्र पर परीक्षा स्वच्छ, कदाचारमुक्त, शांतिपूर्ण संचालन हेतु विधि-व्यवस्था संधारण के सम्पूर्ण प्रभार में रहेंगे एवं परीक्षा कार्य समाप्ति तक भ्रमणशील रहकर सतत निगरानी रखेंगे। अपर जिला दण्डाधिकारी, विधि-व्यवस्था, पटना के साथ नगर पुलिस अधीक्षक, मध्य, पटना, नगर पुलिस अधीक्षक, पूर्वी पटना, नगर पुलिस अधीक्षक, पश्चिमी, पटना उक्त परीक्षा के अवसर पर अपने-अपने क्षेत्रान्तर्गत विधि-व्यवस्था के वरीय प्रभार में रहेंगे।

डीएम डॉ. सिंह व एसएसपी ढिल्लो ने कहा कि सभी संलग्न पदाधिकारी, कर्मी एवं अभ्यर्थी कोविड अनुकूल व्यवहार एवं अद्यतन मानक संचालन प्रक्रिया का अनिवार्य रूप से अनुपालन सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने कहा है कि परीक्षार्थियों को किसी भी प्रकार की समस्या न हो यह सभी केन्द्राधीक्षक एवं प्रतिनियुक्त पदाधिकारीगण सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि यह परीक्षा राज्य के लिए प्रतिष्ठापूर्ण परीक्षा है। स्वच्छ, कदाचारमुक्त एवं शांतिपूर्ण माहौल में परीक्षा संपन्न कराने के लिए जिला प्रशासन प्रतिबद्ध है।

Find Us on Facebook

Trending News