केस वापस लेने के दबाव में नाबालिग दुष्कर्म पीड़िता ने खाया जहर

केस वापस लेने के दबाव में नाबालिग दुष्कर्म पीड़िता ने खाया जहर

डेस्क...  बिहार के दरभंगा जिले के कमतौल थाना क्षेत्र के एक गांव की नाबालिग दुष्कर्म पीड़िता ने गुरुवार को पंचों के दबाव में आकर जहर खा लिया। उसे गंभीर हालत में डीएमसीएच में भर्ती कराया गया है। पीड़िता की मां ने आरोप लगाया कि दुष्‍कर्म मामले को लेकर गांव में पंचायत बुलायी गयी थी। इस दौरान पीड़िता पर केस वापस लेने का दबाव बनाया जा रहा था। ऐसा नहीं करने पर उसे जान से मारने की धमकी दी गयी। इसी डर के कारण उसने जहर खा लिया।

इस संबंध में ढढ़िया बेलवारा की मुखिया शमिता देवी के पुत्र रामभजन बैठा ने बताया कि गांव में गुरुवार को किसी बात को लेकर पंचायत हुई थी, लेकिन उन्हें इसकी जानकारी नहीं दी गयी थी। वहीं, थाना प्रभारी सरवर आलम ने घटना की पुष्टि करते हुए कहा कि गांव में पंचायत हुई थी। इस दौरान पीड़िता पर जबरन समझौता करने का दबाव बनाया जा रहा था। इसी कारण पीड़िता ने खटमल मारने की दवा खा ली। परिजन उसे जाले रेफरल अस्पताल ले गए। वहां प्राथमिक उपचार के बाद उसे डीएमसीएच ले जाया गया। पुलिस घटना की तहकीकात में जुटी हुई है।

पुलिस ने नहीं की कोई मदद
बता दें कि छह माह पूर्व नाबालिग लड़की के साथ गांव के ही एक युवक ने दुष्कर्म किया था। इस मामले में आरोपित के खिलाफ कमतौल थाने में प्राथमिकी दर्ज की गयी थी। आरोपित फिलहाल जेल में है। इसी मामले को लेकर गांव में पंचायत बुलायी गयी थी। इसमें पीड़िता व उसके परिवार के सदस्यों पर केस वापस लेने का दबाव बनाया जा रहा था।

डीएमसीएच के इमरजेंसी वार्ड में पीड़िता के साथ आयी उसकी मां ने कहा कि पंचायत में हुई बातों को बताने हम कमतौल थाना गये थे। वहां केस के आईओ मनोज कुमार को हमने सारी घटना की जानकारी दी। इस पर उन्होंने कहा कि यह पंचायत का मामला है, आप खुद इससे निपट लें। घर पर मेरी बेटी अकेली थी। इसी दौरान मो. इस्लाम शेख, मो. मुस्लिम शेख, मो. सगीर शेख और मो. नजीर शेख के साथ कुछ और लोग मेरे घर पर आए और मेरी बेटी को जान से मारने की धमकी देने लगे। साथ ही केस वापस नहीं लेने पर जिंदा जला देने की बात कही। उन लोगों से डरकर मेरी बेटी ने घर में रखी खटमल मारने की दवा खा ली। जब हम घर पहुंचे तो देखा कि वह जमीन पर पड़ी थी और बार-बार उल्टी कर रही थी। पूछने पर उसने सारी बात बताई। हम उसे इलाज के लिए कमतौल पीएचसी ले गये। वहां डॉक्टर ने उसे डीएमसीएच रेफर कर दिया।



Find Us on Facebook

Trending News