विपक्ष के हंगामे की भेंट चढ़ा संसद का प्रश्न काल, नहीं हुआ नए मंत्रियों का परिचय, सरकार ने कहा - गलत परंपरा की शुरुआत

विपक्ष के हंगामे की भेंट चढ़ा संसद का प्रश्न काल, नहीं हुआ नए मंत्रियों का परिचय, सरकार ने कहा - गलत परंपरा की शुरुआत

NEW DELHI : कोरोना संकट के बीच संसद का मानसून सत्र शुरू हो गया। संसद पहुंच कर पीएम मोदी ने कहा कि धारदात सवाल पूछें, लेकिन सरकार को जवाब देने का मौका भी दें। संसद के दोनों सदनों में कार्यवाही शुरू होते ही कोरोना की दूसरी लहर, महंगाई और चीन से जुड़े मामले और पत्रकारों-नेताओं की जासूसी को लेकर हंगामा शुरू हो गया। नतीजा यह हुआ कि सदन में नए मंत्रियों का परिचय भी कराया जा सका और कार्यवाही को स्थगित करना पड़ गया। जहां राज्यसभा की  12:24 तक के लिए और लोकसभा की कार्यवाही दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई है। 

राजनाथ सिंह ने जताई आपत्ती

मंत्रियों का परिचय नहीं होने देने को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आपत्ती जाहिर की। उन्होंने कहा ऐसा संसद में पहले कभी नहीं हुआ कि नए मंत्रियों का परिचय भी कराया गया हो। राजनाथ सिंह ने कहा कि वह 24 साल से सांसद हैं, लेकिन पहले कभी ऐसा नहीं देखा। उन्होंने इसके लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि यह एक गलत परंपरा की शुरूआत की गई है, जो सही नहीं है।

इससे पहले सदन की बैठक शुरू होने के बाद राज्यसभा में  अभिनेता दिलीप कुमार और फ्लाइंग सिख मिल्खा समेत इस साल जान गंवाने वाले सांसदों और प्रसिद्ध हस्तियों को श्रद्धांजलि दी गई। वहीं सदन की बैठक शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी सांसदों से अपील की थी कि वह सदन में कड़े से कड़े सवाल पूछे, सरकार सभी सवालों का जवाब देगी, लेकिन सदन को व्यवस्थित ढंग से चलने दिया जाए। लेकिन प्रधानमंत्री की इस अपील का विपक्ष पर कोई असर नहीं हुआ। 



Find Us on Facebook

Trending News