पेट्रोल पंप आवंटन के नाम पर की थी लाखों की ठगी, आरोपितों को गिरफ्तार करने तेलंगाना से पहुंची पुलिस

पेट्रोल पंप आवंटन के नाम पर की थी लाखों की ठगी, आरोपितों को गिरफ्तार करने तेलंगाना से पहुंची पुलिस

नवादा। जिले के वारिसलीगंज तेलंगाना से आई पुलिस टीम ने स्थानीय पुलिस के सहयोग से थाना क्षेत्र के ठेरा पंचायत की जलालपुर गांव से ठगी मामले के तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार तीनों आरोपितों को व्यवहार न्यायालय नवादा से आदेश प्राप्त कर तेलंगाना पुलिस अपने साथ लेते गई।

वारिसलीगंज थानाध्यक्ष पवन कुमार ने बताया कि तेलंगाना राज्य के गुद्दीपल्ली थाना कांड संख्या 103/20 पेट्रोल पंप आवंटन के नाम पर ठगी का मामला गुद्दीपल्ली निवासी नानानाथ लक्षमण ने दिनांक 24 जून 20 को दर्ज करवाया था। जिसमें विभिन्न किस्तों में 13 लाख 30 हजार रुपये ठग लेने का आरोप तीन युवकों पर लगाया था। तब उक्त थाना के सब इंस्पेक्टर टी परशुराम, जी सत्या, डी रामबाबू सहित छह सदस्यीय पुलिस की टीम स्थानीय पुलिस के सहयोग से नामजद आरोपियों की गिरफ्तारी में जुटी थी। शाम मोबाइल लोकेशन के आधार पर ठेरा पंचायत की जलालपुर गांव में छापेमारी कर ठगी का आरोपी संतोष कुमार, उदय कुमार तथा अभिषेक कुमार को गिरफ्तार कर  थाना लाया गया। बाद में व्यवहार न्यायालय नवादा के आदेश पर तीनों ठगों को तेलंगाना पुलिस अपने साथ ले गई। 


बता दें कि नालंदा जिले के कतरीसराय थाना क्षेत्र से शुरू हुआ ठगी का धंधा धीरे धीरे नवादा के वारिसलीगंज, काशीचक तथा पकरीबरावां प्रखंडों के अलावा सीमावर्ती शेखपुरा जिले के कई प्रखंडों में विभिन्न प्रकार से ठगी का धंधा परवान पर है। इस प्रकार के धंधेबाज हैलो गिरोह संचालित कर साइबर के माध्यम से लोगो को गाड़ी, लाटरी में राशि जीतने आदि का प्रलोभन देकर देश के विभिन्न राज्यों के सीधे साधे लोगों से मोटी रकम बैंक खाता में मंगवाते हैं। चेहरा पहचानो गाड़ी जीतो खेल में फांसकर रजिस्ट्रेशन, इंश्योरेंस और तेल के लिए बैंक खाते में पैसा मंगवाते हैं।

 ठग गिरोह के कुछ मास्टर माइंड एटीएम का क्लोनिग, एटीएम कार्ड बन्द होने वगैरह का झांसा देकर राशि ठगते हैं।  गिरोह नवादा के वारिसलीगंज, काशीचक, पकरीबरावां और नालंदा के कतरीसराय सहित शेखपुरा जिले की सीमावर्ती व प्रखंड के ग्रामीण क्षेत्रों के खेतों, बगीचे व खंधा आदि में बैठकर धंधे को संचालित करते है।इन क्षेत्रों के नए युवाओं को ठगी का यह धंधा भा रहा है। क्योंकि गिरोह से जुड़ते ही ठगी गई राशि में से मोटी रकम के अलावा , रेडीमेड कपड़े, लजीज खाना तथा शराब एवं शबाव की व्यवस्था होती है।

Find Us on Facebook

Trending News