पीएम मोदी ने कोरोना से लंबी लड़ाई के लिये कसी कमर ,सवा करोड़ मास्क ,डेढ़ करोड़ पीपीई के साथ लॉक डाउन का डोज चलता रहेगा !

पीएम मोदी ने कोरोना से लंबी लड़ाई के लिये कसी कमर ,सवा करोड़ मास्क ,डेढ़ करोड़ पीपीई के साथ लॉक डाउन का डोज चलता रहेगा !

Desk: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना महामारी के खिलाफ चल रही लड़ाई को लंबा बताया है और कहा है कि इसे बिना थके जीतना ही है. इस जंग को जीतने के लिए देशवासियों की सावधानी के साथ ही सरकार की तैयारी भी बेहद जरूरी है. जनता की तरफ से लॉकडाउन में पूरा समर्थन मिलता दिखाई दे रहा है, जिसकी पीएम मोदी भी खुलकर तारीफ कर रहे हैं. 

वहीं सरकार के लेवल पर भी बड़ी तैयारी की जा रही है. कोरोना को हराने वाले सबसे बड़े योद्धा डॉक्टर और दूसरे मेडिकल स्टाफ हैं. इनकी सुरक्षा के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट यानी PPE और N95 मास्क. इन दोनों ही आवश्यक चीजों की आपूर्ति हर गुजरते दिन के साथ बढ़ाई जा रही है और भविष्य के लिए भी बड़े पैमाने पर इनकी सप्लाई सुनिश्चित की गई है. भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से बताया गया है कि 112.76 लाख N95 मास्क और 157.32 लाख PPE किट्स के ऑर्डर दे दिए गए हैं. इनमें से 80 लाख PPE किट्स के साथ मास्क अलग से भी रखे गए हैं. इस तरह मास्क की संख्या और बढ़ जाएगी. सरकार ने ये बताया है कि फिलहाल पर्याप्त संख्या में किट्स और मास्क उपलब्ध हैं और हर हफ्ते 10 लाख पीपीई किट्स की सप्लाई हासिल करने का टारगेट रखा गया है.


समय पर मेडिकल किट्स की सप्लाई के लिए सरकार एक तरफ जहां अपने ही देश में इक्विपमेंट्स तैयार करा रही है वहीं विदेशों भी आयात किया जा रहा है. आयात की पहले खेप चीन से आ चुकी है. 6 अप्रैल को चीन से 1.70 लाख पीपीई की खेप सरकार को मिल चुकी है. जबकि 20 हजार पीपीई किट्स भारत में ही तैयार कर ली गई हैं. यानी फिलहाल 1.90 पीपीई किट्स तैयार हैं जिन्हें अस्पतालों में बांटा जाएगा. इन किट्स के अलावा देश में पहले से ही 3,87,473 पीपीई किट्स मौजूद हैं. इस तरह देश में फिलहाल कुल 5,77,473 पीपीई किट्स उपलब्ध हैं. चीन से 60 लाख पीपीई किट्स को लेकर एक और डील भी फाइनल स्टेज में पहुंच गई है. चीन से सरकार को पीपीई किट्स मिल गई हैं, जबकि 80 लाख पीपीई किट्स (मास्क के साथ) का ऑर्डर सिंगापुर में दिया गया है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया है कि 80 लाख किट्स की डिलीवरी 11 अप्रैल से आनी शुरू हो जाएगी. पहली खेप में 2 लाख किट्स आनी हैं, जबकि उसके एक हफ्ते के भीतर 8 लाख किट्स और जाएंगी.

भारत में फिलहाल पीपीई किट्स उत्तर रेलवे की तरफ से तैयार कराई जा रही हैं. DRDO ने भी मास्क और किट्स बनाए हैं. अब भारत में प्रोडक्शन बढ़ाया जा रहा है. सरकार का कहना है कि हर दिन 80 हजार मास्क बनाने का टारगेट रखा गया है. केंद्र सरकार की तरफ से अब तक कुल 20 लाख से ज्यादा N95 मास्क दिए गए हैं. इनमें से करीब 16 लाख मास्क अस्पतालों के अलावा देश के अलग-अलग हिस्सों में उपलब्ध करा दिए गए हैं. यानी ये मास्क जरूरतमंदों तक पहुंच गए हैं. जबकि करीब 6 लाख पीपीई किट्स की सप्लाई भी कर दी गई है. वहीं, कोरोना संक्रमण के टेस्ट की बात की जाए भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद् यानी ICMR के मुताबिक, 6 अप्रैल की रात 9 बजे तक देशभर में कुल 1,01,068 लाख सैंपल टेस्ट किए गए हैं. इनमें से 4135 लोगों के सैंपल कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. 6 अप्रैल की रात 9 बजे तक एक दिन के अंदर 11,432 सैंपल की टेस्टिंग हुई, जिनमें से 311 केस पॉजिटिव पाए गए.आपको बता दें कि जितने सैंपल की टेस्टिंग अब तक पूरे देश में हुई है, करीब उतने लोग सिर्फ महाराष्ट्र और दिल्ली के अंदर क्वारनटीन में भेजे गए हैं. वहीं, दूसरी तरफ से दिल्ली सरकार के अलावा दूसरी राज्य सरकारें भी डिमांड के हिसाब से केंद्र सरकार की ओर से पीपीई किट्स और मास्क की सप्लाई न मिलने के दावे भी कर रही हैं.


Find Us on Facebook

Trending News