बिहार उत्तरप्रदेश मध्यप्रदेश उत्तराखंड झारखंड छत्तीसगढ़ राजस्थान पंजाब हरियाणा हिमाचल प्रदेश दिल्ली पश्चिम बंगाल

BREAKING NEWS

  • स्टेशन पर खड़ी मालगाड़ी बिना लोको पायलट और सिग्नल के ही लगी चलने, मची अफरातफरी
  • स्टेशन पर खड़ी मालगाड़ी बिना लोको पायलट और सिग्नल के ही लगी चलने, मची अफरातफरी

  • पीपुल्स फैंडली पुलिस की करतूत,  खाकी वाले ने पहले युवक को दौड़ाया, फिर कस कर की कुटाई, गाली गौलौज ऐसा की शर्म भी शरमा जाए
  • पीपुल्स फैंडली पुलिस की करतूत, खाकी वाले ने पहले युवक को दौड़ाया, फिर कस कर की कुटाई,

  • पटना में नियोजित शिक्षकों का बवाल, के.के पाठक का दिल्ली दौरा, शिक्षा मंत्री और सीएम के प्रधान सचिव का फोन नहीं उठा रहे ACS, जानिए क्या है पूरा मामला
  • पटना में नियोजित शिक्षकों का बवाल, के.के पाठक का दिल्ली दौरा, शिक्षा मंत्री और सीएम के प्रधान सचिव

  • पटना में आज नियोजित शिक्षक करेंगे आंदोलन, सक्षमता परीक्षा के पहले एडमिट कार्ड जला करेंगे विरोध
  • पटना में आज नियोजित शिक्षक करेंगे आंदोलन, सक्षमता परीक्षा के पहले एडमिट कार्ड जला करेंगे विरोध

  • मोतिहारी में एचएम और डीपीएम के बीच जमकर चलें लात घूंसे, वीडियो सोशल मीडिया में हुआ वायरल
  • मोतिहारी में एचएम और डीपीएम के बीच जमकर चलें लात घूंसे, वीडियो सोशल मीडिया में हुआ वायरल

  • बांका में अवैध खनन रोकने गए दारोगा और सिपाही पर बालू माफियाओं ने कुल्हाड़ी से किया, जब्त बालू लदे ट्रैक्टर लेकर हुए फरार
  • बांका में अवैध खनन रोकने गए दारोगा और सिपाही पर बालू माफियाओं ने कुल्हाड़ी से किया, जब्त बालू

  • गया में अनियंत्रित वाहन की चपेट में आने से सरकारी शिक्षक की हुई मौत, परिजनों में मचा कोहराम
  • गया में अनियंत्रित वाहन की चपेट में आने से सरकारी शिक्षक की हुई मौत, परिजनों में मचा कोहराम

  • पुण्यतिथि पर याद किए गए अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के भूतपूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष रवि नंदन सहाय, रविशंकर प्रसाद और आरके सिन्हा ने दी श्रद्धांजलि
  • पुण्यतिथि पर याद किए गए अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के भूतपूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष रवि नंदन सहाय, रविशंकर प्रसाद

  • खगड़िया में रंग लायी जदयू विधायक डॉ. संजीव की पहल, 9 करोड़ की लागत से 100 एकड़ जमीन होगा विकसित, उद्योग लगाने के लिए होंगे आवंटित
  • खगड़िया में रंग लायी जदयू विधायक डॉ. संजीव की पहल, 9 करोड़ की लागत से 100 एकड़ जमीन

  • सीएम योगी की कार के आगे चल रही एंटी डेमो गाड़ी पलटी, हादसे में पांच पुलिसकर्मी सहित नौ लोग बुरी तरह से चोटिल
  • सीएम योगी की कार के आगे चल रही एंटी डेमो गाड़ी पलटी, हादसे में पांच पुलिसकर्मी सहित नौ

पूर्वोत्तर क्षेत्र के विकास के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने किया बड़ा ऐलान, जानिए कैसे संवर जाएगी एक साथ आठ राज्यों की किस्मत

पूर्वोत्तर क्षेत्र के विकास के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने किया बड़ा ऐलान, जानिए कैसे संवर जाएगी एक साथ आठ राज्यों की किस्मत

DESK. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को कहा कि उनकी सरकार ने आठ साल के कार्यकाल में पूर्वोत्तर क्षेत्र के विकास की राह में आयी सभी बाधाओं को दूर कर दिया है। पूर्वोत्तर परिषद (एनईसी) की स्वर्ण जयंती के मौके पर यहां एक जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि क्षेत्र में प्रदान की गयी बेहतर हवाई सेवाओं से कृषि उत्पाद के निर्यात में मदद मिल रही है जिससे किसानों को फायदा पहुंच रहा है। कतर में फीफा विश्व कप के फाइनल मुकाबले के मद्देनजर मोदी ने कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की सरकार ने पूर्वोत्तर के विकास की राह में आयी कई बाधाओं को ‘रेड कार्ड’ दिखाया है।

प्रधामनंत्री ने अपने 26 मिनट के भाषण में कहा, ‘‘भ्रष्टाचार, भेदभाव, हिंसा और वोटबैंक की राजनीति जैसी बाधाओं को हटाया गया।’’ मोदी ने कहा, ‘‘पहले पूर्वोत्तर को बांटने के प्रयास किए गए लेकिन अब हम इस तरह के प्रयासों को रोक रहे हैं।’’ उन्होंने कई परियोजनाओं का उद्घाटन और उनकी नींव भी रखी। जिन परियोजनाओं का उद्घाटन किया गया उनमें न्यू शिलॉन्ग टाउनशिप में भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम)-शिलांग भी शामिल है। आज सुबह यहां पहुंचे प्रधानमंत्री पहले स्टेट कन्वेंशन सेंटर में एनईसी के स्वर्ण जयंती समारोह में शामिल हुए। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और कई अन्य केंद्रीय मंत्रियों तथा गणमान्य लोगों ने भी इस कार्यक्रम में भाग लिया।

एक आधिकारिक बयान के अनुसार, प्रधानमंत्री मोदी ने इस अवसर पर पिछले 50 वर्षों में पूर्वोत्तर के विकास में एनईसी के योगदान को बताने वाली पुस्तिका ‘गोल्डन फुटप्रिंट्स’ का भी विमोचन किया। एनईसी के 50 साल के सफर पर एक लघु फिल्म भी दिखायी गयी। एनईसी पूर्वोत्तर क्षेत्र के आर्थिक एवं सामाजिक विकास के लिए नोडल एजेंसी हैं। इस क्षेत्र में आठ राज्य अरुणाचल प्रदेश, असम, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, सिक्किम और त्रिपुरा शामिल हैं। 

पूर्वोत्तर परिषद का गठन संसद के एक कानून के जरिए 1971 में किया गया था। हालांकि, इसका औपचारिक उद्घाटन सात नवंबर, 1972 को किया गया था।