पप्पू पर पलट गई पार्टी: RJD ने तेजप्रताप-श्याम रजक के बयान को किया खारिज, नेतृत्व ने नेताओं को न घर का छोड़ा न घाट का

पप्पू पर पलट गई पार्टी: RJD ने तेजप्रताप-श्याम रजक के बयान को किया खारिज, नेतृत्व ने नेताओं को न घर का छोड़ा न घाट का

PATNA:  पूर्व सांसद व जाप प्रमुख पप्पू यादव को कोरोना काल में सरकार की पोल खोलना महंगा पड़ गया। पटना पुलिस ने मंगलवार को उन्हें गिरफ्तार कर मधेपुरा पुलिस को सौंप दिया। मधेपुरा पुलिस ने पप्पू यादव को 32 वर्ष पुराने अपहरण के केस में अरेस्ट कर मधेपुरा कोर्ट में पेश किया . न्यायालय ने पूर्व सांसद को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। पप्पू यादव की गिरफ्तारी पर राजद के कई बड़े नेताओं ने सरकार पर जमकर हमला बोला था। न सिर्फ तेजप्रताप यादव,श्याम रजक बल्कि अन्य प्रवक्ताओं ने भी नीतीश सरकार की खूब खरी-खोटी सुनाई थी। अगले 24 घंटे में ही राजद नेतृत्व ने अपने नेताओं के स्टैंड को सिरे खारिज कर दिया। राजद ने अब पप्पू यादव को खूब कोसा है और नीतीश सरकार का एजेंट करार दिया है। ऐसे में पप्पू के पक्ष में बोलने वाले राजद नेता न घर के रहे न घाट के।   


 पप्पू पर पलट गई RJD

मंगलवार को जब पटना पुलिस ने पप्पू यादव को गिरफ्तार किया इसके बाद यह खबर जंगल में आग की तरह फैल गई। सत्ता पक्ष से लेकर विपक्ष के नेता एक साथ सरकार पर टूट पड़े।पप्पू यादव की गिरफ्तारी के बाद नीतीश सरकार के भीतर खलबली मच गई है। सरकार में शामिल मांझी-सहनी ने पुलिस की इस कार्रवाई को मानवता के खिलाफ बता तत्काल रिहाई की मांग की। नीतीश सरकार में  मंत्री मुकेश सहनी ने भी अपनी ही सरकार को घेरा। राजद के कई बड़े नेता भी पप्पू यादव के पक्ष में खुलकर सामने आ गये। तेजस्वी यादव के बड़े भाई तेजप्रताप यादव ने ट्वीट कर नीतीश सरकार पर निशाना साधा। लालू के बड़े लाल ने ट्वीट में लिखा कि ये कुशासन कुमार का अभागा बिहार है भइया....।यहां चोरी पकड़ने वालों की गिरफ्तारी और चोर को सीएम आवास में इफ्तारी मिलता है। तेजप्रताप यादव ने भले ट्वीट तो कर दिया लेकिन कुछ ही समय के बाद उन्हें यह ट्वीट डिलीट करना पड़ा । तेजस्वी यादव के खास माने जाने वाले पूर्व मंत्री श्याम रजक ने भी पप्पू यादव की गिरफ्तारी पर कड़ा एतराज जताया था। श्याम रजक ने कहा था कि मानवता के लिए संघर्ष करने वाले पप्पू यादव की गिरफ्तारी से रिहा करे। यही नीतीश कुमार के लिए प्राश्चित होगा। राजद के इन दो बड़े नेताओं के अलावे पार्टी के कई प्रवक्ताओं ने पप्पू यादव की गिरफ्तारी पर कड़ा एतराज जताया था। राजद नेताओं को पप्पू यादव के पक्ष में बयानबाजी करने समय यह भान नहीं था कि तेजस्वी इस तरह से पलटी मारेंगे। लेकिन तेजस्वी किसी कीमत पर पप्पू यादव को बर्दाश्त नहीं करना चाहते। लिहाजा अगले ही दिन राजद ने पूर्व सांसद पप्पू यादव को नीतीश सरकार का एजेंट करार दे दिया। 

राजद ने प्रेस कांफ्रेंस कर पप्पू पर बोला हमला

राजद ने प्रेस कांफ्रेंस कर पप्पू यादव पर गंभीर आरोप लगाये हैं। राजद प्रदेश कार्यालय में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में विधायक चंद्रशेखर और प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने पप्पू यादव को सरकार की गोद में खेलने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि पप्पू यादव और नीतीश कुमार नूरा-कुश्ती कर रहे हैं। पप्पू खुद गिरफ्तार हुए हैं ताकी लोगों की सहानुभूति मिले। इसमें सरकार और पप्पू यादव की मिलीभगत है। पूर्व सांसद का चरित्र कैसा है ये किसी से छुपा है क्या? पप्पू यादव ने इसी फ़रारी के चलते सरकार के कहे अनुसार अस्पताल से नामांकन किया लेकिन मधेपुरा सहित संपूर्ण बिहार में प्रचार किया। मुख्यमंत्री ने उनकी कोई गिरफ़्तारी नहीं होने दी। सरकार अपनी विफलताओं को छिपाने, मरते लोगों, जलते शवों और नदियों में बहती लाशों से ध्यान हटाने के लिए प्रायोजित नाटक का प्रपंच रच रहा है।



Find Us on Facebook

Trending News