पिछड़ों को जानवर समझती है संघ और भाजपा, जातीय गणना रुकने पर भड़के राजद सुप्रीमो लालू यादव

पिछड़ों को जानवर समझती है संघ और भाजपा, जातीय गणना रुकने पर भड़के राजद सुप्रीमो लालू यादव

पटना. जातीय गणना रुकने पर राष्ट्रीय जनता दल सुप्रीमो और पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव बिफरे पड़े हैं. दिल्ली पहुंचने के बाद उन्होंने केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा है. उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा कि केंद्र सरकार घड़ियाल की गिनती कर लेती है, लेकिन देश के बहुसंख्यक गरीबों, वंचितों, उपेक्षितों, पिछड़ों और अतिपिछड़ों की नहीं? 

उन्होंने कहा है कि संघ और भाजपा देश के पिछड़ों को जानवरों से भी बदतर मानती है. इसलिए इन्हें जातीय गणना और जातीय सर्वे से दिक्कत है. भाजपा को पिछड़ों से इतनी नफरत और दुश्मनी क्यों? अब लालू प्रसाद के इस बयान से बिहार में सियासत तेज हो गई है.

यह पहली बार नहीं है जब लालू प्रसाद ने बिहार में होने वाले जातीय गणना को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी है. इसके पूर्व पांच मई को लालू प्रसाद ने सोशल मीडिया पर लिखा था कि जातिगत गणना बहुसंख्यक जनता की मांग है और यह हो कर रहेगा. भाजपा बहुसंख्यक पिछड़ों की गणना से डरती क्यों है? 

उन्होंने पहले भी कहा था कि जो जातीय गणना का विरोधी है वह समता, मानवता, समानता का विरोधी है और ऊंच- नीच, गरीबी, बेरोजगारी, पिछड़ेपन, सामाजिक और आर्थिक भेदभाव का समर्थक है. देश की जनता जातिगत गणना पर भाजपा की कुटिल चाल और चालाकी को समझ चुकी है.


Find Us on Facebook

Trending News