बिहार के नए डीजीपी की तलाश हुई तेज, लिस्ट में तीन नाम की सबसे ज्यादा चर्चा

बिहार के नए डीजीपी की तलाश हुई तेज, लिस्ट में तीन नाम की सबसे ज्यादा चर्चा

PATNA : फर्जी फोन कॉल के कारण पिछले दिनों चर्चा में रहे बिहार के डीजीपी एसके सिंघल अगले माह की 19 तारीख को रिटायर हो रहे हैं। ऐसे में अब उनकी जगह किसी बिहार के नए डीजीपी के तौर पर कमान सौंपी जाएगी, इसकी चर्चा शुरू हो गई है। बिहार सरकार ने नए डीजीपी के लिए दस नामों की सूची संघ लोक सेवा आयोग को भेजी है। जिनमें किसी एक को बिहार पुलिस के नए मुखिया के तौर पर चुना जाएगा।

बिहार सरकार द्वारा भेजी गई लिस्ट में से अंतिम रूप से यूपीएससी के पैनल में तीन अफसरों का नाम होगा। अब तक जो तीन नाम इस सूची में सबसे ऊपर है, उनमें 1987 बैच के मनमोहन सिंह हैं। मनमोहन सिंह फिलहाल आईबी में तैनात हैं। लेकिन उनके रिटायरमेंट में सिर्फ छह माह बचा है। ऐसे मनमोहन सिंह अगर हामी भरते हैं तो फिर उनका नाम सबसे ऊपर होगा। इसके बाद पैनल में दो अन्य नाम ट्रेनिंग अकाडमी के डीजी आलोक राज और आरएस भट्टी का है। इसके अलावा मनमोहन सिंह के मना करने पर इस लिस्ट में तीसरा नाम होमगार्ड की डीजी शोभा ओहटकर का जुड़ जाएगा। 

आरएस भट्टी और आलोक राज की संभावना अधिक

नए डीजीपी के तौर पर अभी तक जो स्थिति बनती हुई नजर आ रही है, उसमें आरएस भट्टी या आलोक राज में से किसी को बिहार पुलिस प्रमुख की जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है। 1989 बैच के आईपीएस आलोक राज जहां दिसंबर 2025 में रिटायर होंगे, वहीं आरएस भट्टी सितंबर 2025 में रिटायर होंगे। दोनों अधिकारी की छवि बेहतर अफसर की रही है। ऐसे में इनकी संभावना अधिक जताई जा रही है।

हालांकि वरीयता की बात करें तो तीन आईपीएस भी इस लिस्ट में हैं। जिनमें 1986 बैच के आईपीएस शीलवर्द्धन सिंह, 1987 बैच के एएस राजन व 1988 बैच के अरविंद पांडय शामिल हैं। इनमें शीलवर्धन सिंह फिलहाल सीआईएसएफ के डीजी हैं। वहीं एएस राजन नेशनल पुलिस अकाडमी, हैदराबाद के निदेशक हैं। इसके अलावा अरविंद पांडेय बिहार सिविल डिफेंस के डीजी है, लेकिन उन पर एक आरोप में दो बार वेतन वृद्धि घट चुकी है। ऐसे में तीनों के डीजीपी बनने की संभावना काफी कम है।


Find Us on Facebook

Trending News