12 दिसंबर से आयोजित होगी सीनियर डिवीजन क्रिकेट लीग,टर्फ विकेट पर खेले जायेंगे मैच

12 दिसंबर से आयोजित होगी सीनियर डिवीजन क्रिकेट लीग,टर्फ विकेट पर खेले जायेंगे मैच

PATNA:  बिहार क्रिकेट एसोसिएशन (बीसीए) द्वारा पटना जिला में क्रिकेट की गतिविधियों को संचालित करने के लिए गठित पटना जिला क्रिकेट संघ तदर्थ समिति द्वारा सत्र 2022-23 में होने वाली पटना जिला सीनियर डिवीजन क्रिकेट लीग और जूनियर डिवीजन क्रिकेट लीग की तैयारी अंतिम चरण में हैं। गुरुवार को लीग के आयोजन की तैयारियों को अंतिम रूप देने के लिए तदर्थ समिति के संयोजक राजेश कुमार की अध्यक्षता में एक समीक्षा बैठक आयोजित की गई जिसमें कई निर्णय लिये गए। 

बैठक के बारे में जानकारी देते हुए सदस्य रहबर आबदीन ने बताया कि पटना जिला सीनियर डिवीजन लीग की शुरुआत 12 दिसंबर से होगी। उन्होंने कहा कि सारे मैच टर्फ विकेट पर खेले जायेंगे। टीमों को गेंद तदर्थ समिति के द्वारा उपलब्ध कराया जायेगा।बीसीए द्वारा गठित तदर्थ समित के सदस्य रहबर आबदीन ने कहा कि इस सत्र में होने वाले मैचों के बाद कोई भी टीम सीनियर डिवीजन से जूनियर डिवीजन में नहीं जायेगी जबकि जूनियर डिवीजन की चार सेमीफाइनलिस्ट टीमों को सीनियर डिवीजन में अपग्रेड किया जायेगा। 

उन्होंने कहा कि जिन कुछ क्लबों ने बीसीए द्वारा गठित पीडीसीए तदर्थ समिति द्वारा वितरित फॉर्म के अनुसार रजिस्ट्रेशन नहीं कराया है वे इस सत्र में नहीं खेल पायेंगे। साथ ही उन्होंने खिलाड़ियों से अपील की कि वे वर्तमान सत्र में तदर्थ समिति से पंजीकृत क्लबों की ओर से ही खेलेंगे क्योंकि बिहार क्रिकेट एसोसिएशन ने पटना में क्रिकेट संचालन का जिम्मा तदर्थ समिति को सौंप रखा है। 

बीसीए द्वारा गठित तदर्थ समिति के सदस्य रहबर आबदीन ने कहा कि अब तक तदर्थ समिति ने अपनी जिम्मेवारियों का निर्वहन ईमानदारी पूर्वक किया है और इसी का नतीजा है कि बिहार क्रिकेट एसोसिएशन द्वारा आयोजित क्रिकेट गतिविधियों के लिए तदर्थ समिति द्वारा भेजे गए प्लेयर्स लिस्ट को लेकर कोई विवाद नहीं उत्पन्न हुआ। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में बिहार क्रिकेट एसोसिएशन ने पटना जिला में क्रिकेट संचालन के जिम्मेवारी तदर्थ समिति को सौंपी है इस बात को खिलाड़ी ही नहीं क्लबों के पदाधिकारी भी समझें और उसी के नियमानुसार काम करें। उन्होंने कहा कि यही बात पटना जिला के क्रिकेट जगत के हित में है। 

उन्होंने यह भी कहा कि जो भी क्लब, खिलाड़ी या पटना जिला से जुड़े अन्य तदर्थ समिति के नियमों के विरुद्ध कार्य करेंगे उन पर नियमानुसार कारवाई करने के लिए तदर्थ समिति को मजबूर होना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि पटना जिला क्रिकेट के हित में यही है कि सभी तदर्थ समिति के साथ मिल कर काम करें और पीडीसीए के गोल्डन जुबली वर्ष में पटना जिला के क्रिकेट को नई गति प्रदान करें।

Find Us on Facebook

Trending News