7 नवम्बर से बक्सर में श्रीराम कर्म क्षेत्र महाकुम्भ की होगी शुरुआत, प्रमुख तीर्थों के संतों के साथ आरएसएस प्रमुख करेंगे शिरकत

7 नवम्बर से बक्सर में श्रीराम कर्म क्षेत्र महाकुम्भ की होगी शुरुआत, प्रमुख तीर्थों के संतों के साथ आरएसएस प्रमुख करेंगे शिरकत

PATNA : मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम की जन्मभूमि अयोध्या रही हैं। लेकिन कर्मभूमि बक्सर को माना गया है। जिसका वर्णन वेदों और पुराणों में किया गया है। आपको बता दें कि श्री राम कर्म भूमि न्यास की ओर से विश्व सनातन संस्कृति समागम राम राज्य की ओर एवं रामेश्वर श्रीराम कर्म क्षेत्र महाकुंभ का आयोजन बक्सर में होने जा रहा है जो कि 7 नवंबर से 15 नवंबर तक होगा। जगद्गुरु रामभद्राचार्य जी श्री राम कथा कहेंगे। 


वही जगद्गुरु अनंत आचार्य जी द्वारा श्रीमद् भागवत कथा कही जाएगी। यही नहीं कथा से पहले एक अभियान भी शुरू किया जा रहा है। जिसका नाम है "मुझमें राम।" इस यज्ञ में अध्यात्मिक व सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया है। जिसमें 8 नवंबर को भारत के सभी प्रमुख तीर्थों से संत महंत महामंडलेश्वर जगद्गुरु व विद्वान लोग शामिल होंगे। 

इस अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संचालक मोहन भागवत भी उपस्थित रहेंगे। देश के नेता भी इस आयोजन में शिरकत करेंगे। उपराष्ट्रपति से लेकर मुख्यमंत्री तक का निमंत्रण दिया गया है। लगभग सभी राज्यों के मुख्यमंत्री भी इसमें शामिल होंगे। भगवान राम की जन्मभूमि का गौरव पुनः प्रस्फुटित हो रहा है। उनके जन्म भूमि पर दिव्य और भव्य मंदिर निर्माण का कार्य शीघ्र पूर्ण होने जा रहा है। 

भारत के संत,मनीषी और विचारको का मानना है कि भगवान राम का अवतरण जिस हेतु के लिए त्रेता युग में हुआ था। उसका शुभारंभ गंगा तट पर विराजमान सिद्धाश्रम बक्सर से हुआ था। श्रीराम ने धरती को आतंक से मुक्त मिलाकर दैहिक, दैविक भौतिक तापों से मुक्ति दिलाने वाली व्यवस्था निर्माण की प्रक्रिया यहीं से शुरू की थी। कार्यक्रम के पहले दिन से ही सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। जिसमें अनुराधा पौडवाल, कैलाश खेर के साथ ही साथ तमाम गायकों का आगमन हो रहा है। 

पटना से वंदना शर्मा की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News