परिवहन OSD का मामला अब लोकायुक्त कोर्ट पहुंचा...21अगस्त को होगी सुनवाई, 8 सालों से एक ही जगह पर जमे हैं ओएसडी

परिवहन OSD का मामला अब लोकायुक्त कोर्ट पहुंचा...21अगस्त को होगी सुनवाई, 8 सालों से एक ही जगह पर जमे हैं ओएसडी

PATNA: बिहार के सीएम जिस विभाग के मंत्री हैं वहां के एक अफसर आठ सालों से परिवहन विभाग में ओएसडी के पद पर जमे हैं। परिवहन विभाग में कितने मंत्री-सचिव से लेकर अन्य अधिकारी और कर्मी आये-गये लेकिन बिप्रसे के अधिकारी आठ सालों से एक ही पोस्ट पर जमे हैं। ऐसा लग रहा कि उनके बिना उस विभाग का संचालन संभव नहीं। बिहार सरकार द्वारा कृपा बरसाने के बाद अब यह मामला लोकायुक्त के यहां पहुंच गया है। लोकायुक्त के न्यायालय में 21 अगस्त को मामले की सुनवाई होगी। इसके लिए सभी पक्षों को सम्मन जारी किया गया है। 

लोकायुक्त कार्यालय ने जारी किया सम्मन

 लोकायुक्त ने परिवाद संख्या 88/ 2021 में दर्ज अजीव वत्सराज विशेष कार्य पदाधिकारी परिवहन विभाग जो 8 वर्षों से बने हैं . उनके परिवहन कार्यालय के पदाधिकारियों, कर्मियों ,प्रोग्रामर के साथ भ्रष्टाचार में लिप्त रहने का आरोप है. इस संबंध में प्रारंभिक सुनवाई के लिए सम्मन जारी किया गया है. प्रारंभिक सुनवाई लोकायुक्त कार्यालय में 21 अगस्त को होगी. लोकायुक्त कार्यालय के अवर सचिव ने 4 अगस्त को जारी सम्मन में कहा है कि निर्धारित तिथि को लोकायुक्त कार्यालय के न्यायालय कक्ष में सुनवाई के लिए स्वयं अथवा अपने अधिवक्ता के माध्यम से प्रारंभिक सुनवाई में उपस्थित हों.

एक अधिकारी के चलते सीएम नीतीश का विभाग कटघरे में

 दूसरे विभाग की बात छोड़िए जिस विभाग के मंत्री खुद सीएम नीतीश कुमार हैं उस विभाग का एक अफसर आठ सालों से एक ही जगह पर कुंडली मार कर बैठे हैं.  क्या आप इसे अफसरशाही का एक नमूना नहीं कहेंगे? क्या यह संभव है कि बिना सरकारी मेहरबानी के कोई अफसर आठ वर्ष तक एक ही पद पर बना रह सकता है? सवाल उठना लाजिमी है कि एक को इतनी छूट तो अन्य को क्यों नहीं ? हम बात कर रहे हैं  सामान्य प्रशासन विभाग की। सामान्य प्रशासन विभाग के मंत्री खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हैं। इस विभाग के जिम्मे भारतीय प्रशासनिक सेवा और बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारी होते हैं। इन अधिकारियों के स्थानांतरण-पदस्थापना का पावर इसी विभाग के पास होता है। समय-समय पर विभाग की तरफ से अधिकारियों का स्थानांतरण किया जाता रहा है। सामान्य प्रशासन विभाग की तरफ से जारी लिस्ट में बिहार प्रशासनिक सेवा के उप सचिव स्तर के करीब ढाई सौ अफसर हैं। 

सामान्य प्रशासन विभाग एक अफसर पर मेहरबान!

सामान्य प्रशासन विभाग इतने अधिकारियों में एक खास अधिकारी पर मेहरबान दिख रहा है। वैसे दो महीने पहले तक इस मेहरबानी वाली लिस्ट में दो अधिकारियों का नाम था. लेकिन मामला सामने आने पर एक का स्थानांतरण कर दिया। अब इस लिस्ट में एक अधिकारी का नाम बच गया है। वो अधिकारी परिवहन विभाग में OSD के पद पर पदस्थापित हैं....नाम है अजीव वत्सराज। सामान्य प्रशासन विभाग ने बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारी अजीव वत्सराज को नवंबर 2013 में परिवहन विभाग के OSD के पद पर पदस्थापित किया था। तब से लेकर आज तक वे उसी विभाग में उसी पद पर बने हुए हैं. सामान्य प्रशासन विभाग उप सचिव स्तर के अधिकारियों का तबादला कर रही है लेकिन आठ सालों से परिवहन विभाग के ओएसडी को नहीं छुआ गया। इसे सेटिंग नहीं तो और क्या कहेंगे ? क्या इतने दिनों बाद भी विभाग की नजर उन तक तक नहीं पहुंची या इसके पीछे कोई दूसरा खेल है? इसका जवाब तो अधिकारी ही देंगे। लेकिन इतना तो सबलोग समझ रहे हैं कि इस सुशासन राज में अधिकारियों की मनामनी चल रही। 

कितने मंत्री-अधिकारी आये-गए, OSD साहब का कोई बाल-बांका नहीं कर सका

 अब तक परिवहन विभाग में कितने मंत्री, प्रधान सचिव,सचिव,कमिश्नर,डिप्टी सेक्रेट्री,ज्वाइंट सेक्रेट्री और कमिश्नर आये और गये लेकिन ये OSD के पद पर 2013 से ही जमें हैं। क्या मजाल की कोई इन्हें हटा दे. बाकी अधिकारी विभाग में आ रहे और कुछ समय बाद चले जा रहे। लेकिन 8 सालों से जमे परिवहन विभाग के ओएसडी पर सरकार की नजर नहीं है। 

सरकार ही बता रही 2013 से OSD के पद पर हैं पदस्थापित

बता दें, परिवहन विभाग के ओएसडी अजीव वत्सराज बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारी हैं। बिहार सरकार ने अजीव वत्सराज को नवंबर 2013 में ही परिवहन विभाग के ओएसडी के पद पर पदस्थापित किया था। तब से लेकर आज तक वे इसी पद पर बने हुए हैं। 

देखें प्रमाण 



Find Us on Facebook

Trending News