TOKYO PARALYMPICS: दिन की ‘सोने’-सी शुरूआत, शूटिंग में दिखी ‘चांदी’-सी चमक, मनीष और सिंहराज ने एकसाथ लगाया निशाना

TOKYO PARALYMPICS: दिन की ‘सोने’-सी शुरूआत, शूटिंग में दिखी ‘चांदी’-सी चमक, मनीष और सिंहराज ने एकसाथ लगाया निशाना

N4N DESK: टोक्यो पैरालंपिक में भारत का प्रदर्शन दिनोंदिन और बेहतर होता जा रहा है। हम अपने ही रिकॉर्ड को तोड़कर नए कीर्तिमान स्थापित करते जा रहे हैं। शनिवार को 11वें दिन की शुरूआत भारत के लिए शानदार रही। P4 Mixed 50m Pistol SH1 इवेंट में फाइनल में मनीष नरवाल ने 218.2 का स्कोर कर पहला स्थान हासिल किया। वहीं सिंहराज 216.7 प्वाइंट्स के साथ दूसरे स्थान पर रहे। इसी के साथ भारत ने एक ही इवेंट में दो पदक जीत लिए हैं। टोक्यो पैरालंपिक 2021 में कुल पदकों की संख्या अब 15 हो गई है।

ये दोनों पैरा शूटर्स फरीदाबाद के हरने वाले हैं। क्वालिफिकेशन में सिंहराज 536 अंकों के साथ चौथे स्थान पर थे, जबकि मनीष नरवाल 533 अंको के साथ सातवें नंबर पर रहे थे। इसके साथ ही टोक्यो पैरालंपिक में मनीष नरवाल ने तीसरा गोल्ड मेडल दिलाया। इससे पहले अवनि लखेरा (Women's 10m Air Rifle SH1) और सुमित अंतिल (Men's Javelin Throw F64) ने स्वर्ण पदक दिलाया था। इस पैरालंपिक में सिंहराज ने दूसरा मेडल हासिल किया। इससे पहले उन्हें 10m Air Pistol SH1 में कांस्य पदक मिला था। अवनि लखेरा के पास भी दो पदक हैं। उन्होंने गोल्ड के अलावा ब्रॉन्ज जीता है।

इससे पहले शुक्रवार को अवनि और और प्रवीण कुमार के अलावा भारत को हरविंदर सिंह ने भी पदक दिलाया है। आर्चरी में भारत को हरविंदर ने कांस्य पदक दिलाया। पैरालंपिक के इतिहास में पहली बार भारत को तीरंदाजी में पदक मिला है। उन्होंने ब्रॉन्ज मेडल के हुए मैच में शूटऑफ में कोरिया के तीरंदाज को हराया था। कुल मिलाकर कहें तो इस बार एक के बाद एक पुराने रिकॉर्ड ध्वस्त हो रहे हैं और हमारे पैरा एथलीट कमाल दिखाते ही जा रहे हैं। भारत के अब टोक्यो में 15 मेडल हो चुके हैं। अब तक 53 साल में 11 पैरालिंपिक्स में 12 मेडल आए। 1960 से पैरालिंपिक हो रहा है। भारत 1968 से पैरालिंपिक में भाग ले रहा है। वहीं 1976 और 1980 में भारत ने भाग नहीं लिया था।




Find Us on Facebook

Trending News