जहरीली शराब के सेवन दो लोगों की मौत, छह से ज्यादा गंभीर, प्रशासन ने कहा - पोस्ट मार्टम रिपोर्ट का करें इंतजार

जहरीली शराब के सेवन दो लोगों की मौत, छह से ज्यादा गंभीर,  प्रशासन ने कहा - पोस्ट मार्टम रिपोर्ट का करें इंतजार

SIWAN : सीवान जिले में बीती रात एक ही गांव में दो लोगों की संदिग्ध स्थिति में मौत हो गई। जबकि छह लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है। परिजनों का कहना है कि उनकी जहरीली शराब पीने के कारण हुई है। वहीं प्रशासन की तरफ से बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही कहा जा सकता है कि मौत की असली वजह क्या है। फिलहाल, हुई मौतों के बाद प्रशासन के साथ गांव के लोगों में भी हड़कंप मच गया है। 

मौत की यह घटना जिले के  लकड़ी नबीगंज थाने के बाला गांव से जुड़ी है। बताया गया है कि बाला गांव में ही शराब पीने के बाद इनकी तबीयत बिगड़ी है।  मरनेवाले दो लोगों में एक की पहचान जनकदेव रावत के रूप में की गई है। एक की पहचान नहीं हो पाई है। जबकि, छह लोग बीमार हैं, पीड़ितों में बाला गांव निवासी धीरेंद्र मांझी, सुरेंद्र प्रसाद, राजू मांझी, दुलम रावत, लक्ष्मण रावत की पुष्टि हो पाई थी।  जिनको प्राथमिक उपचार के लिए बसंतपुर के पीएचसी में भेजा गया है।  वहीं, डीएम अमित कुमार पांडेय ने बताया कि संदिग्ध हालत में एक की मौत की सूचना मिली है, इसके बाद शव को बरामद कर सदर अस्पताल में पोस्ट मार्टम  कराया जा रहा है। वहीं अन्य बीमार लोगों को सदर अस्पताल में लाकर इलाज कराने के लिए प्रशासन और पुलिस की टीम लगतार जुटी हुई है। 

इधर, घटना की सूचना मिलते ही सदर अस्पताल प्रशासनिक छावनी में तब्दील हो गया। सदर अस्पताल में मृत जनक बिन के शव का पोस्टमार्टम कराने की प्रक्रिया चल रही थी। डीएम अमित कुमार के मुताबिक मौत शराब पीने से हुई है या अन्य कारणों से इनकी मौत हुई है , यह पोस्टमार्टम के बाद ही साफ हो पाएगा। प्रशासन की टीम को पूरी तरह से अलर्ट कर दिया गया है। 

डीएम ने बताया कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लकड़ी नबीगंज ओर बसंतपुर पीएचसी को भी कोई बीमार आता है तो उसकी चिकित्सा करने को कहा गया है। अगर हालत बिगड़ी है तो उसको सदर अस्पताल में रेफर करने को भी कह दिया गया है। पूरी रह से नजर रखी जा रही है। सभी बीमार लोगों का पता लगाकर इलाज में जाने के लिए कहा जा रहा है।

गांव में फैली दहशत

जानकारी के अनुसार, गांव में रविवार की दोपहर सभी शराब का सेवन कर रहे थे। शराब सेवन करने के बाद सबसे पहले नरेश बिन की तबीयत अचानक बिगड़ गई। स्वजन अभी कुछ समझ पाते कि तब तक नरेश बिन की मौत हो गई। घटना के बाद स्वजन ने नरेश के शव का दाह संस्कार कर दिया।

इसके थोड़ी देर बाद गांव के आधा दर्जन लोगों की तबीयत बिगड़ने लगी। किसी के शरीर में ऐंठन तो किसी को आंखों की रोशनी घटने की समस्या शुरू हो गई। थोड़ी देर बाद गांव के ही जनक बिन की मौत हो गई।


Find Us on Facebook

Trending News