BIHAR NEWS : परीक्षा दिलवाकर लौट रहे युवक को अनियंत्रित ट्रक ने रौंदा, मौके पर हुई मौत, एक की हालत गंभीर

BIHAR NEWS : परीक्षा दिलवाकर लौट रहे युवक को अनियंत्रित ट्रक ने रौंदा, मौके पर हुई मौत, एक की हालत गंभीर

CHHAPRA : छपरा मोहम्मदपुर मार्ग में सदर प्रखण्ड के मुसेहरी पोखरा पर एक हृदय विदारक घटना देखने को मिली। जहां परीक्षा दिलवाकर लौट रहे रामनगर निर्मोही टोला के रतन राम के 18 वर्षीय पुत्र की ट्रक की चपेट में आने से घटनास्थल पर ही मौत हो गई। जानकारी के अनुसार रामनगर निर्मोही टोला के रतन राम के 18 वर्षीय पुत्र जितेश राम अपने गांव के ही एक परीक्षार्थी को नगरा प्रखण्ड के राणा प्रताप उच्च विद्यालय सह 10+2 परीक्षा केन्द्र से परीक्षा दिलवाकर अपने दो साथी के साथ दो बाईक से लौट रहें थे। इसी बीच अचानक जमुना मुसेहरी पोखरा के समीप संतुलन बिगड़ने पर दोनों बाईक आपस में टकरा गई। जिसमें एक बाईक गिर गई। जिसके बाद छपरा की तरफ से आ रही एक अनियंत्रित ट्रक ने जितेश राम को बाईक के साथ कुचल दिया और मौके से फरार हो गया। इस घटना में रामनगर निर्मोही टोला के हीरामजी साह का लगभग 25 वर्षीय पुत्र अर्जुन साह गम्भीर रूप से घायल हो गया। जिसके बाद स्थानीय लोगों द्वारा घायल युवक को ईलाज के लिए आनन फानन में सदर स्पताल भेजा, जहां उसका इलाज चल रहा है। वहीं स्थानीय लोगों द्वारा घटना की जानकारी मुफस्सिल थाने को दी गयी। जिसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची। घटना की खबर जैसे ही परिजनों को हुई की घटनास्थल पर परिजनों का चीख पुकार मच गया।

सदर प्रखण्ड के मुसेहरी पोखरा पर ट्रक की चपेट में आकर रामनगर निर्मोही टोला के जितेश राम ही मौके पर हुई मौत की खबर सुन गांव वाले ने मुसेहरी पोखरा पर आगजनी कर छपरा- सत्तरघाट मार्ग को किया अवरुद्ध कर दिया। जिसके बाद ट्रकों व सवारी गाड़ियों का जाम लग गया। वहीं मौके पर पहुंची मुफस्सिल थाने की पुलिस घटना में मृत हुए परिजनों के साथ लोगों को जाम हटवाने का प्रयास कर रहीं है। लेकिन परिजन घटनास्थल से शव को हटाने को तैयार नहीं हुए। खबर लिखे जाने तक शव घटनास्थल पर हीं पड़ी है। वहीं पुलिस और प्रशासन शव को पोस्टमार्टम के लिए छपरा भेजने के लिए परिजनों को मनाने में लगी है। ताकी शव को सड़क से हटाने के बाद यातायात को बहाल कर सके।

ट्रक की चपेट में आकर मुसेहरी पोखरा के समीप अपनी जान गवाने वाले रामनगर निर्मोही टोला के रतन राम के लगभग 18 वर्षीय पुत्र जितेश राम अपने तीन भाईयों और एक बहन में सबसे छोटा भाई था। गांव के लोगों की माने तो जितेश शांत स्वभाव का छात्र था, जो पढ़ने में बहुत ही होनहार था। वहीं घटना के बाद मां और बहन लगातार बेहोश हो जा रही थी। जिसे अन्य महिलाएं सम्भालने में लगीं थी। वहीं पिता और भाई का रो- रो कर बुरा हाल था।

छपरा से संजय भारद्वाज की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News