बिहार के पैदल यात्रियों को लेकर योगी सरकार का बड़ा फैसला,सब को सुरक्षित घर तक पहुंचाने का लिया निर्णय

बिहार के पैदल यात्रियों को लेकर योगी सरकार का बड़ा फैसला,सब को सुरक्षित घर तक पहुंचाने का लिया निर्णय

DESK : कोई राजस्थान से तो कोई दिल्ली से तो कोई कानपुर से जिंदगी जीने की इच्छा लिए रोजगार छोड़कर घर के लिए पैदल ही चल पड़ा। मोदी सरकार के कोरोना संक्रमण से बचाव को लेक्ट 21 दिनों के लॉक डाउन वाले फैसले ने खासकर कामगारों और दैनिक वेतन भोगी मजदूरों की जिंदगी ही लॉक कर दी। मोदी सरकार ने तो कह दिया कि आप जहां हैं वहीं ठहर जाएं लेकिन जो मजदूर दैनिक वेतन पर अपना काम कर रहे थे उनके मालिकों ने उन्हें चलता कर दिया। फिर क्या था लॉक डाउन में उनकी जिंदगी ही लॉक हो गई ।अब ना इधर के रहे ना उधर के। कोई सहारा ना देख 1 हजार किलोमीटर दूर काम करने वाले मजदूर भूखे प्यासे यानी राम भरोसे पैदल ही घर की तरफ चल दिए। मीडिया के द्वारा उनके दर्द की कहानी अखबारों,टीवी के पर्दों और इंटरनेट के माध्यम से नीति नियंताओं तक पहुंचने लगी। 

योगी सरकार ने लिया निर्णय
21 दिनों के  देश में हुए लॉक डाउन के बाद  जब मोतिहारी एक मजदूर का रोजगार छिन गया तो उसके अंदर जीने की तमन्ना और दुगनी हो उठी।मालिक ने भी कह दिया कि अब आप अपने घर जाओ। चुकी कोरोना वायरस के खौफ ने  आदमी को आदमी से दूर कर दिया है ।संकट जितना ज्यादा सशक्त हुआ मोतिहारी का मजदूर परिवार उतना ही मजबूत होते गया। 1 हजार किलोमीटर दूर बसे इस मजदूर परिवार में निर्णय लिया कि अब पैदल ही घर की तरफ निकल लिया जाए। और वह वही किया ।

ऐसे एक किस्से नहीं हैं बल्कि बिहार से लेकर राजस्थान तक अनगिनत कड़वी सच्चाई देखने को मिल रही है। मजदूरों की व्यथा देख उत्तर प्रदेश की योगी सरकार निर्णय लिया है कि बिहार और उत्तराखंड के मजदूरों को अब सुरक्षित उनके घरों तक पहुंचाया जाएगा।इतना ही नहीं उन्हें खाना से लेकर स्वास्थ्य की सेवा तक मुहैया कराई जाएगी

 खैर चलिए 2 दिन बाद ही सही किसी एक राज्य सरकार ने गरीबों के सुध तो ली जो पैदल चल चल कर बेहाल हो रहे थे। योगी सरकार के इस निर्णय से अब कम से कम भूखे प्यासे मजदूरों का जत्था अब घर तक सुरक्षित पहुंच पायेगा।

Find Us on Facebook

Trending News